Asianet News Hindi

गोल्ड की कीमतों में आई तेजी, इसमें निवेश सुरक्षित होने के साथ मिल सकता है बढ़िया फायदा

First Published Jan 18, 2021, 3:03 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क। गोल्ड की कीमतों में चढ़ाव-उतार का दौर जारी है। मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (MCX) पर सोमवार को सोना 33 रुपए की गिरावट के साथ 48669 रुपए प्रति 10 ग्राम के भाव पर खुला। दोपहर 12 बजे यह 181 रुपए यानी 0.37 फीसदी की तेजी के साथ 48883 रुपए पर ट्रेड कर रहा था। सुबह इसने 48608 रुपए का न्यूनतम और 48995 रुपए का उच्चतम स्तर छू लिया। अप्रैल डिलिवरी वाला सोना भी 195 रुपए की तेजी के साथ 48910 रुपए पर ट्रेड कर रहा था। बता दें कि गोल्ड में इस उतार-चढ़ाव के बावजूद वित्तीय सलाहकारों का यह मानना है कि गोल्ड में निवेश लॉन्ग टर्म में बेहतर रिटर्न तो दिलाएगा ही, यह एक सुरक्षित निवेश होगा।
(फाइल फोटो)
 

गोल्ड की अंतराष्ट्रीय कीमतों में तेजी बनी हुई है। इसके चलते शुक्रवार को दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना 286 रुपए की तेजी के साथ 48,690 रुपए प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज (HDFC Securities) ने इसकी जानकारी दी। इससे पहले गुरुवार को सोना 48,404 रुपए प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना तेजी के साथ 1,852 डॉलर प्रति औंस पर था। (फाइल फोटो)

गोल्ड की अंतराष्ट्रीय कीमतों में तेजी बनी हुई है। इसके चलते शुक्रवार को दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना 286 रुपए की तेजी के साथ 48,690 रुपए प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज (HDFC Securities) ने इसकी जानकारी दी। इससे पहले गुरुवार को सोना 48,404 रुपए प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना तेजी के साथ 1,852 डॉलर प्रति औंस पर था। (फाइल फोटो)

पिछला साल गोल्ड के लिए बहुत ही बढ़िया रहा। 2020 में सोने की कीमत करीब 28 फीसदी तक बढ़ी। अगस्त, 2020 में गोल्ड ने एक नया रिकॉर्ड बना दिया था और अपना ऑल टाइम हाई के स्तर को छू लिया था। कोरोना महामारी के दौरान गोल्ड में बड़े पैमाने पर निवेश किया गया। इसे सबसे सुरक्षित निवेश बताया गया। (फाइल फोटो)

पिछला साल गोल्ड के लिए बहुत ही बढ़िया रहा। 2020 में सोने की कीमत करीब 28 फीसदी तक बढ़ी। अगस्त, 2020 में गोल्ड ने एक नया रिकॉर्ड बना दिया था और अपना ऑल टाइम हाई के स्तर को छू लिया था। कोरोना महामारी के दौरान गोल्ड में बड़े पैमाने पर निवेश किया गया। इसे सबसे सुरक्षित निवेश बताया गया। (फाइल फोटो)

भारत में ही गोल्ड की कीमत बढ़ी हो, ऐसी बात नहीं है। वर्ल्ड मार्केट में भी सोना करीब 23 फीसदी महंगा हुआ है। इससे पहले 2019 में भी सोने के दाम में बढ़ोत्तरी की दर डबल डिजिट में थी। यही वजह है कि गोल्ड में निवेश करने वालों को कभी किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ। (फाइल फोटो)

भारत में ही गोल्ड की कीमत बढ़ी हो, ऐसी बात नहीं है। वर्ल्ड मार्केट में भी सोना करीब 23 फीसदी महंगा हुआ है। इससे पहले 2019 में भी सोने के दाम में बढ़ोत्तरी की दर डबल डिजिट में थी। यही वजह है कि गोल्ड में निवेश करने वालों को कभी किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ। (फाइल फोटो)

कोविड-19 महामारी (Covid-19 Pandemic) से निपटने के लिए दुनिया भर में वैक्सीन के आ जाने भी गोल्ड की कीमतों में गिरावट आ रही है। मार्केट एक्सपर्ट्स का कहना है कि ग्लोबल इकोनॉमी में सुधार और अमेरिका-चीन के बीच तनाव कम होने से निवेशक सोने को छोड़कर शेयर बाजार का रुख कर रहे हैं। यही वजह है कि आने वाले समय में सोने की कीमतों में ज्यादा उछाल की संभावना नहीं है। हालांकि, लंबी अवधि के लिए सोना निवेश का हमेशा सबसे अच्छा ऑप्शन माना जाता रहा है। (फाइल फोटो)

कोविड-19 महामारी (Covid-19 Pandemic) से निपटने के लिए दुनिया भर में वैक्सीन के आ जाने भी गोल्ड की कीमतों में गिरावट आ रही है। मार्केट एक्सपर्ट्स का कहना है कि ग्लोबल इकोनॉमी में सुधार और अमेरिका-चीन के बीच तनाव कम होने से निवेशक सोने को छोड़कर शेयर बाजार का रुख कर रहे हैं। यही वजह है कि आने वाले समय में सोने की कीमतों में ज्यादा उछाल की संभावना नहीं है। हालांकि, लंबी अवधि के लिए सोना निवेश का हमेशा सबसे अच्छा ऑप्शन माना जाता रहा है। (फाइल फोटो)

भारत में सोने की कीमत दुनिया के बड़े बाजारों में इसकी कीमतों से प्रभावित होती रही है। कोरोना वायरस महामारी की वजह से दुनिया की अर्थव्यवस्था में सुधार आने में समय लगेगा। इसके अलावा दुनियाभर में कम ब्याज दरों और यूएस डॉलर में कमजोरी सोने में निवेश के लिए सही मौका है। फिलहाल, गोल्ड स्पॉट 1900 डॉलर प्रति औंस के आसपास है। इस साल यह 1980 डॉलर और फिर 2050 डॉलर तक जा सकती है। (फाइल फोटो)

भारत में सोने की कीमत दुनिया के बड़े बाजारों में इसकी कीमतों से प्रभावित होती रही है। कोरोना वायरस महामारी की वजह से दुनिया की अर्थव्यवस्था में सुधार आने में समय लगेगा। इसके अलावा दुनियाभर में कम ब्याज दरों और यूएस डॉलर में कमजोरी सोने में निवेश के लिए सही मौका है। फिलहाल, गोल्ड स्पॉट 1900 डॉलर प्रति औंस के आसपास है। इस साल यह 1980 डॉलर और फिर 2050 डॉलर तक जा सकती है। (फाइल फोटो)

हाल के वर्षों में रियल एस्टेट की तुलना में गोल्ड ने काफी ज्यादा रिटर्न दिया है। रियल एस्टेट की कीमतों में पिछले कुछ समय से दुनियाभर में ठहराव आ गया है। होम प्राइस इंडेक्स 2020-21 की दूसरी तिमाही में 1.1 फीसदी बढ़ा, जबकि उससे पिछली तिमाही में यह 2.8 फीसदी और पिछले साल की समान तिमाही में 3.3 फीसदी बढ़ा था। 2020 में गोल्ड ने सभी एसेट क्लास में सबसे अच्छा रिटर्न दिया। (फाइल फोटो)

हाल के वर्षों में रियल एस्टेट की तुलना में गोल्ड ने काफी ज्यादा रिटर्न दिया है। रियल एस्टेट की कीमतों में पिछले कुछ समय से दुनियाभर में ठहराव आ गया है। होम प्राइस इंडेक्स 2020-21 की दूसरी तिमाही में 1.1 फीसदी बढ़ा, जबकि उससे पिछली तिमाही में यह 2.8 फीसदी और पिछले साल की समान तिमाही में 3.3 फीसदी बढ़ा था। 2020 में गोल्ड ने सभी एसेट क्लास में सबसे अच्छा रिटर्न दिया। (फाइल फोटो)

दुनियाभर के देशों के प्रमुख केंद्रीय बैंकों ने ब्याज दरों में कटौती करके इसे करीब शून्य कर दिया है। कम से कम अगले एक साल तक यह इसी स्तर पर रहेगा। इसके साथ ही मार्केट में लिक्विडिटी मुहैया कराने के लिए भी सेंट्रल बैंक भी नई नीतियां अपना रहे हैं। इस सबसे गोल्ड की कीमतों में तेजी आएगी। ऐसे में, इसमें निवेश करना फायदे का सौदा ही साबित होगा। (फाइल फोटो)

दुनियाभर के देशों के प्रमुख केंद्रीय बैंकों ने ब्याज दरों में कटौती करके इसे करीब शून्य कर दिया है। कम से कम अगले एक साल तक यह इसी स्तर पर रहेगा। इसके साथ ही मार्केट में लिक्विडिटी मुहैया कराने के लिए भी सेंट्रल बैंक भी नई नीतियां अपना रहे हैं। इस सबसे गोल्ड की कीमतों में तेजी आएगी। ऐसे में, इसमें निवेश करना फायदे का सौदा ही साबित होगा। (फाइल फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios