Asianet News Hindi

संजय दत्त की हालत देख टेंशन में आ गए फैन्स, हर कोई कर रहा ठीक होने की दुआ, एक बोला- फाइटर हैं आप

First Published Oct 5, 2020, 11:36 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. 61 साल के संजय दत्त (sanjay dutt) इन दिनों लंग्स कैंसर (lungs cancer) जैसी घातक बीमारी से जूझ रहे हैं। मुंबई के अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है। हाल ही में वे अपने परिवार के साथ क्वालिटी टाइम बिताने के लिए दुबई गए थे। इसी बीच उन्हें अपने इलाज के लिए यह ट्रिप बीच में ही छोड़नी पड़ी और वे दुबई से मुंबई वापस आ गए। दो कीमोथेरेपी करना चुके संजय की जल्दी ही तीसरी कीमोथेरेपी शुरू होने वाली है। और इसी सिलसिले में वे डॉक्टर्स से मिलने कोकीलाबेन अस्पताल गए थे। वहां से उनकी लेटेस्ट फोटोज सामने आई थी, जिसे देखकर उनसे फैन्स को तगड़ा झटका लगा है। दरअसल, सामने आई फोटोज में वे बेहद कमजोर नजर आ रहे हैं और अच्छी खासी सेहत वाले संजय का वजन भी काफी कम हो गया है। फैन्स सोशल मीडिया के जरिए उनके जल्दी ठीक होने की दुआ कर रहे हैं।

उनकी तीसरी कीमोथेरिपी होनी है। सोशल मीडिया पर उनकी नई फोटोज काफी वायरल हो रही है। लोग इसे उनकी कीमोथेरिपी के बाद की फोटो बता रहे हैं। इस फोटो के सामने आने के बाद उनके फैंस काफी चिंता में हैं। 

उनकी तीसरी कीमोथेरिपी होनी है। सोशल मीडिया पर उनकी नई फोटोज काफी वायरल हो रही है। लोग इसे उनकी कीमोथेरिपी के बाद की फोटो बता रहे हैं। इस फोटो के सामने आने के बाद उनके फैंस काफी चिंता में हैं। 

एक यूजर ने फोटो देखकर कहा कि बाबा बहुत कमजोर नजर आ रहे हैं, उम्मीद है वो जल्दी ठीक होंगे। एक और यूजर ने कहा कि कामना करते हैं कि संजू जल्द बेहतर महसूस करेंगे। गौरतलब है कि 11 अगस्त को संजू को लंग कैंसर होने की खबर सामने आई थी।

एक यूजर ने फोटो देखकर कहा कि बाबा बहुत कमजोर नजर आ रहे हैं, उम्मीद है वो जल्दी ठीक होंगे। एक और यूजर ने कहा कि कामना करते हैं कि संजू जल्द बेहतर महसूस करेंगे। गौरतलब है कि 11 अगस्त को संजू को लंग कैंसर होने की खबर सामने आई थी।

एक शख्स ने लिखा कि संजय दत्त काफी बीमार नजर आ रहे हैं। उनका वजन भी कम हो गया है। एक अन्य ने लिखा- आप फाइटर है, जल्दी ही ठीक हो जाएंगे।

एक शख्स ने लिखा कि संजय दत्त काफी बीमार नजर आ रहे हैं। उनका वजन भी कम हो गया है। एक अन्य ने लिखा- आप फाइटर है, जल्दी ही ठीक हो जाएंगे।

बता दें कि लंग्स कैंसर में जो सबसे आम समस्या देखी गई है वो है सांस लेने में दिक्कत होना। जिन्हें लंबी सांस लेने में परेशानी हो, उन्हें तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। सांस लेने में परेशानी होना फेफड़ों में किसी प्रकार की दिक्कत की ओर संकेत करता है। लंग्स कैंसर के मरीजों की छाती में कुछ तरल पदार्थ जमा हो जाते हैं जिनसे ब्लॉकेज आ जाती है। इस कारण लोगों को सांस लेने में दिक्कत होती है।

बता दें कि लंग्स कैंसर में जो सबसे आम समस्या देखी गई है वो है सांस लेने में दिक्कत होना। जिन्हें लंबी सांस लेने में परेशानी हो, उन्हें तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। सांस लेने में परेशानी होना फेफड़ों में किसी प्रकार की दिक्कत की ओर संकेत करता है। लंग्स कैंसर के मरीजों की छाती में कुछ तरल पदार्थ जमा हो जाते हैं जिनसे ब्लॉकेज आ जाती है। इस कारण लोगों को सांस लेने में दिक्कत होती है।

इस समस्या को डिस्फेगिया भी कहा जाता है। खाना निगलने में परेशानी फूड पाइप में आई किसी दिक्कत के कारण भी हो सकती है। लेकिन कुछ मामलों में ये फेफड़ों की खराबी की ओर भी इशारा करती है। लंग्स कैंसर के कारण होने वाले ट्यूमर फूड पाइप को प्रभावित करते हैं। इससे खाना निगलने में परेशानी और असुविधा होती है। 

इस समस्या को डिस्फेगिया भी कहा जाता है। खाना निगलने में परेशानी फूड पाइप में आई किसी दिक्कत के कारण भी हो सकती है। लेकिन कुछ मामलों में ये फेफड़ों की खराबी की ओर भी इशारा करती है। लंग्स कैंसर के कारण होने वाले ट्यूमर फूड पाइप को प्रभावित करते हैं। इससे खाना निगलने में परेशानी और असुविधा होती है। 

बदलते मौसम में खांसी होना आम बात है। लेकिन अगर काफी दिनों से खांसी की शिकायत है तो इसे नजरअंदाज करने की भूल न करें। सांसों से संबधित समस्या होने पर भी खांसी हो सकती है। अगर आपको खांसते हुए लगातर एक हफ्ते से ज्यादा हो गए हैं तो यह गंभीर स्वास्थ्य समस्या या फिर कैंसर का संकेत हो सकती है।

बदलते मौसम में खांसी होना आम बात है। लेकिन अगर काफी दिनों से खांसी की शिकायत है तो इसे नजरअंदाज करने की भूल न करें। सांसों से संबधित समस्या होने पर भी खांसी हो सकती है। अगर आपको खांसते हुए लगातर एक हफ्ते से ज्यादा हो गए हैं तो यह गंभीर स्वास्थ्य समस्या या फिर कैंसर का संकेत हो सकती है।

तंबाकू खाने से फेफड़ों के कैंसर की सबसे बड़ी वजह मानी जाती है। ऐसे में जरूरी है कि लोग धूम्रपान और शराब से परहेज करना चाहिए। फिजिकल एक्टिविटीज को महत्व देना चाहिए। खानपान का ध्यान और डाइट में एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर फूड्स जैसे लहसुन, टमाटर, ग्रीन टी और हरी सब्जियों को शामिल करना चाहिए।

तंबाकू खाने से फेफड़ों के कैंसर की सबसे बड़ी वजह मानी जाती है। ऐसे में जरूरी है कि लोग धूम्रपान और शराब से परहेज करना चाहिए। फिजिकल एक्टिविटीज को महत्व देना चाहिए। खानपान का ध्यान और डाइट में एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर फूड्स जैसे लहसुन, टमाटर, ग्रीन टी और हरी सब्जियों को शामिल करना चाहिए।

बता दें कि इलाज के दौरान लीलावती अस्पताल के डॉक्टर्स ने उनके फेफड़ों से करीब 1.5 लीटर फ्लूइड निकाला था। खबरों की मानें तो उनके फेफड़ों में फ्लूइड जमा हो रहा है।

बता दें कि इलाज के दौरान लीलावती अस्पताल के डॉक्टर्स ने उनके फेफड़ों से करीब 1.5 लीटर फ्लूइड निकाला था। खबरों की मानें तो उनके फेफड़ों में फ्लूइड जमा हो रहा है।

वर्कफ्रंट की बात करें तो संजय की आने वाली फिल्मों में शमशेरा, केजीएफ चैप्टर 2, पृथ्वीराज, भुज : द प्राइड ऑफ इंडिया और तोरबाज शामिल हैं। इनमें से कुछ फिल्में पूरी हो चुकी हैं, जबकि कुछ में थोड़ा बहुत काम बाकी है।

वर्कफ्रंट की बात करें तो संजय की आने वाली फिल्मों में शमशेरा, केजीएफ चैप्टर 2, पृथ्वीराज, भुज : द प्राइड ऑफ इंडिया और तोरबाज शामिल हैं। इनमें से कुछ फिल्में पूरी हो चुकी हैं, जबकि कुछ में थोड़ा बहुत काम बाकी है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, संजय को चौथे स्टेज का कैंसर है जिसका ट्रीटमेंट वह मुंबई के कोकिलाबेन अंबानी अस्पताल में करवा चल रहा है। लेकिन, पत्नी मान्यता ने अगस्त में ही सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर बीमारी के बारे कोई कयास ना लगाने की अपील की थी। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक, संजय को चौथे स्टेज का कैंसर है जिसका ट्रीटमेंट वह मुंबई के कोकिलाबेन अंबानी अस्पताल में करवा चल रहा है। लेकिन, पत्नी मान्यता ने अगस्त में ही सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर बीमारी के बारे कोई कयास ना लगाने की अपील की थी। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios