Asianet News Hindi

आखिर किस वजह से पुलिस से भागे-भागे छुप रहे ओलंपिक विजेता, पता बताने वाले को दिया जाएगा 1 लाख का इनाम

First Published May 18, 2021, 11:13 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

स्पोर्ट्स डेस्क : दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में 23 साल के पहलवान सागर राणा की हत्या (Sagar Rana Death Case) के मामले में ओलंपिक विजेता सुशील कुमार (Sushil Kumar) फरार चल रहे हैं। जिन पर अब दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तारी की सूचना देने पर 1 लाख रुपये के इनाम की घोषणा की है। पहलवान सुशील कुमार के अलावा इस केस में फरार एक अन्य फरार आरोपी अजय के लिए भी 50 हजार के इनाम की घोषणा की गई है। वहीं, सुशील कुमार की ओर से अदालत में अग्रिम जमानत याचिका दायर की गई है। जिस मामले में रोहिणी कोर्ट में सोमवार को सुनवाई हुई। दिल्ली कोर्ट ने सुशील कुमार की अग्रिम जमानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया है। कोर्ट का कहना है कि वह दिन में आदेश सुनाएगा। बता दें कि, दिल्ली पुलिस पूर्व जूनियर नेशनल कुश्ती चैंपियन सागर राणा की हत्या के मामले में पहलवान सुशील कुमार और 9 अन्य को पकड़ने के लिए छापेमारी कर रही है।

क्या है पूरा मामला
ओलपिंक विजेता सुशील कुमार पर आरोप है, कि उन्होंने अपने साथियों के मिलकर दिल्ली के मॉडल टाउन के एक फ्लैट से जबरन अमित, सोनू, भगत और सागर नाम के पहलवान को उठाया और  छात्रसाल स्टेडियम की पार्किंग में इनकी जमकर पिटाई की। इसमें सोनू, अमित, सागर, रविंद्र और भगत सिंह घायल हो गए। जबकि, सागर की इलाज के दौरान मौत हो गई। बता दें कि इस घटना बाद से सुशील कुमार अपने साथियों संग फरार है।

क्या है पूरा मामला
ओलपिंक विजेता सुशील कुमार पर आरोप है, कि उन्होंने अपने साथियों के मिलकर दिल्ली के मॉडल टाउन के एक फ्लैट से जबरन अमित, सोनू, भगत और सागर नाम के पहलवान को उठाया और  छात्रसाल स्टेडियम की पार्किंग में इनकी जमकर पिटाई की। इसमें सोनू, अमित, सागर, रविंद्र और भगत सिंह घायल हो गए। जबकि, सागर की इलाज के दौरान मौत हो गई। बता दें कि इस घटना बाद से सुशील कुमार अपने साथियों संग फरार है।

नेशनल चैंपियन था सागर
बता दें कि सागर पूर्व जूनियर नेशनल चैंपियन था और ओलंपिक की तैयार कर रहा था। वहीं, उसके पिता अशोक कुमार दिल्ली पुलिस में हवलदार हैं और रोहिणी जिले में उनकी ड्यूटी हैं। 
 

नेशनल चैंपियन था सागर
बता दें कि सागर पूर्व जूनियर नेशनल चैंपियन था और ओलंपिक की तैयार कर रहा था। वहीं, उसके पिता अशोक कुमार दिल्ली पुलिस में हवलदार हैं और रोहिणी जिले में उनकी ड्यूटी हैं। 
 

कोर्ट ने किया नोटिस जारी
दिल्ली की एक अदालत ने शनिवार को पहलवान सुशील कुमार और अन्य के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया। वहीं, दिल्ली पुलिस पहले ही सुशील कुमार समेत सभी आरोपियों के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी कर चुकी है।

कोर्ट ने किया नोटिस जारी
दिल्ली की एक अदालत ने शनिवार को पहलवान सुशील कुमार और अन्य के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया। वहीं, दिल्ली पुलिस पहले ही सुशील कुमार समेत सभी आरोपियों के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी कर चुकी है।

सुशील कुमार के खिलाफ मिले पुलिस को सबूत
सुशील कुमार के खिलाफ घटना में घायल हुए अमित, सोनू और भगत सिंह ने बयान दिया है। इतना ही नहीं पुलिस को प्रिंस दलाल नाम के युवक के फोन से एक वीडियो भी मिला है, जो इस हत्यकांड का प्रमुख सबूत माना जा रहा है। 
 

सुशील कुमार के खिलाफ मिले पुलिस को सबूत
सुशील कुमार के खिलाफ घटना में घायल हुए अमित, सोनू और भगत सिंह ने बयान दिया है। इतना ही नहीं पुलिस को प्रिंस दलाल नाम के युवक के फोन से एक वीडियो भी मिला है, जो इस हत्यकांड का प्रमुख सबूत माना जा रहा है। 
 

करीबियों ने किया सुशील का बचाव
सुशील कुमार को जानने वालों का कहना है कि उन्हें जानबूझकर फंसाया जा रहा है। सुशील कसूर सिर्फ इतना है कि हमला करने वाले के उनकी पहचान के लोग हैं।

करीबियों ने किया सुशील का बचाव
सुशील कुमार को जानने वालों का कहना है कि उन्हें जानबूझकर फंसाया जा रहा है। सुशील कसूर सिर्फ इतना है कि हमला करने वाले के उनकी पहचान के लोग हैं।

OSD के पद पर तैनात हैं सुशील कुमार
बता दें कि हत्याकांड में नाम आने के बाद भी सुशील कुमार को उनके पद से अब तक नहीं हटाया गया है। वह दिल्ली सरकार के अंतर्गत आने वाले छत्रसाल स्टेडियम में OSD के पद पर तैनात हैं।

OSD के पद पर तैनात हैं सुशील कुमार
बता दें कि हत्याकांड में नाम आने के बाद भी सुशील कुमार को उनके पद से अब तक नहीं हटाया गया है। वह दिल्ली सरकार के अंतर्गत आने वाले छत्रसाल स्टेडियम में OSD के पद पर तैनात हैं।

सुशील ने दिलाया था भारत को पहला मेडल
सुशील कुमार नजफगढ़ के बापरोला गांव के रहने वाले हैं, जो एक भारतीय फ्रीस्टाइल पहलवान हैं। उन्होंने 2010 में भारत के लिए पहला ओलंपिक मेडल जीता था। वह अब तक रेसलिंग में भारत के एकमात्र विश्व चैंपियन हैं। इसके साथ ही उन्होंने 2012 के लंदन ओलंपिक में सिल्वर और 2008 में कांस्य पदक जीता था।

सुशील ने दिलाया था भारत को पहला मेडल
सुशील कुमार नजफगढ़ के बापरोला गांव के रहने वाले हैं, जो एक भारतीय फ्रीस्टाइल पहलवान हैं। उन्होंने 2010 में भारत के लिए पहला ओलंपिक मेडल जीता था। वह अब तक रेसलिंग में भारत के एकमात्र विश्व चैंपियन हैं। इसके साथ ही उन्होंने 2012 के लंदन ओलंपिक में सिल्वर और 2008 में कांस्य पदक जीता था।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios