उज्जैन. जन्म कुंडली की तरह हस्तरेखा शास्त्र में भी बुधादित्य योग होता है। यह व्यक्ति की हथेली में सूर्य और बुध पर्वत के मिलन से बनता है। बुधादित्य योग की गिनती ज्योतिष के शुभ योगों में की जाती है।

हाथ में कैसे बनता है बुधादित्य योग?

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार अनामिका उंगुली के मूल में सूर्य पर्वत होता और कनिष्ठिका उंगुली के मूल में बुध पर्वत। आमतौर पर लोगों के हाथ में दोनों पर्वत अलग-अलग उभार लिए होते हैं और इनके बीच में गड्ढा होता है। लेकिन जिन लोगों के हाथ में ये दोनों पर्वत मिले हुए हो और इनके बीच में कोई खाली स्थान ना रह जाए तो हाथ में बुधादित्य योग बनता है। सूर्य और बुध पर्वत आपस में मिले हुए होने के साथ ही इन पर कोई अशुभ चिन्ह नहीं होना चाहिए, वरना योग का प्रभाव शून्य या विपरीत हो जाता है। ये दोनों पर्वत पर्याप्त उभार लिए हुए, मांसल और लालिमा लिए हुए होना चाहिए, तभी यह योग अपना पूर्ण प्रभाव दिखाता है। यह योग दोनों हाथों में से किसी एक में या दोनों हाथों में हो सकता है।

बुधादित्य योग में चिन्हों का महत्व

जिन लोगों की हथेली में बुधादित्य योग हो और पर्वतों पर शंख, चक्र, गदा, वृत्त या द्वीप का चिन्ह हो तो व्यक्ति बहुत ऊंचाइयों तक पहुंचता है। वह स्वयं के परिश्रम से जीवन में श्रेष्ठता हासिल करता है। शुभ चिन्हों के होने से व्यक्ति कुशाग्र बुद्धि और तेजस्वी व्यक्तित्व का मालिक होता है। आर्थिक रूप से पूर्ण सक्षम और अनेक संपत्तियों का मालिक होता है।

बुधादित्य योग का प्रभाव

जिन लोगों की हथेली में बुधादित्य योग हो और क्रॉस, जाल, अनेक आड़ी-तिरछी रेखाएं, त्रिकोण, बिंदु या तारा का चिन्ह हो तो बुधादित्य योग का शुभ प्रभाव नहीं मिलता। ऐसा होने पर व्यक्ति आलसी किस्म का होता है और पुरखों के अर्जित धन, संपत्ति और प्रतिष्ठा को मिट्टी में मिला देता है। गलत कार्यों और व्यसनों में फंसकर जातक को जेल तक की यात्रा करना पड़ सकती है।

कुंडली के योगों के बारे में ये भी पढ़ें

कुंडली में कब बनता है समसप्तक योग, कब देता है शुभ और कब अशुभ फल?

ये हैं जन्म कुंडली के 5 अशुभ योग, इनसे जीवन में बनी रहती हैं परेशानियां, बचने के लिए करें ये उपाय

जिस व्यक्ति की कुंडली में होते हैं इन 5 में से कोई भी 1 योग, वो होता है किस्मत का धनी

लाइफ की परेशानियां बढ़ाता है गुरु चांडाल योग, जानिए कैसे बनता है ये और इससे जुड़े उपाय

आपकी जन्म कुंडली में बन रहे हैं दुर्घटना के योग तो करें ये आसान उपाय

जिन लोगों की जन्म कुंडली के होते हैं ये 10 योग, वो बनते हैं धनवान

जन्म कुंडली में कब बनता है ग्रहण योग? जानिए इसके शुभ-अशुभ प्रभाव और उपाय