Asianet News HindiAsianet News Hindi

नर्मदा घाटी विकास विभाग ने मनाया नदी उत्सव, स्कूली बच्चों को प्रदूषण मुक्त और नदियों के संरक्षण की शपथ दिलाई

आजादी के 75वें अमृत महोत्सव के अंतर्गत नर्मदा घाटी विकास विभाग मध्यप्रदेश द्वारा नदी उत्सव मनाया गया। ओंकारेश्वर स्थित आदिवासी धर्मशाला में आयोजित कार्यक्रम के दौरान प्रभात फेरी, पौधारोपण, दीपोत्सव एवं नर्मदा आरती का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ मां नर्मदा एवं आदि शंकराचार्य की फोटो पर माल्यार्पण एवं पूजा कर किया गया।

Narmada Valley Development Department celebrated river festival in Madhya Pradesh administered oath to school children for pollution free UDT
Author
Bhopal, First Published Dec 31, 2021, 7:09 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भोपाल। आजादी के 75वें अमृत महोत्सव के अंतर्गत नर्मदा घाटी विकास विभाग मध्यप्रदेश द्वारा नदी उत्सव मनाया गया। ओंकारेश्वर स्थित आदिवासी धर्मशाला में आयोजित कार्यक्रम के दौरान प्रभात फेरी, पौधारोपण, दीपोत्सव एवं नर्मदा आरती का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ मां नर्मदा एवं आदि शंकराचार्य की फोटो पर माल्यार्पण एवं पूजा कर किया गया। तत्पश्चात राष्ट्रगान किया गया और नर्मदाष्टक वंदना की गई। कार्यक्रम मे आदि शंकराचार्य के अद्वैत दर्शन एवं सनातन धर्म की पुनर्स्थापना में उनके योगदान का स्मरण किया गया। साथ ही नदी उत्सव के अंतर्गत जीवनदायिनी एवं विकास दायिनी नर्मदा नदी एवं अन्य नदियों की उपयोगिता एवं संरक्षण पर वक्ताओं ने विचार विचार व्यक्त किए।

अधीक्षण यंत्री एचआर चौहान ने नदियों के हमारे जीवन में योगदान विशेषकर नर्मदा नदी पर निर्मित परियोजनाओं से विकास में अहम भूमिका पर प्रकाश डाला। साथ ही नदियों को प्रदूषण से बचाव एवं उनके संरक्षण के लिए हमारे दायित्वों के निर्वहन की आवश्यकता से अवगत कराया। कार्यक्रम में विशेष अतिथि पार्थ सारथी ने आजादी प्राप्त करने में शहीदों के बलिदान को स्मरण किया और आदि शंकराचार्य की मां नर्मदा के तट पर की गई साधना एवं सनातन धर्म के पुनर्स्थापन पर उनके योगदान को याद किया। 

कम पानी से अधिक सिंचाई के बारे में बताया
कार्यपालन यंत्री टीआर पचौरे ने आजादी के 75वें अमृत महोत्सव पर विस्तृत रूप से प्रकाश डाला। केशव सिंह अनुविभागीय अधिकारी महेश्वर ने आईएसपी कालीसिंध (द्वितीय चरण) माइक्रो उद्वहन सिंचाई परियोजना के विषय में अवगत कराया कि इंदिरा सागर जलाशय से जल उद्वहन कर शाजापुर एवं राजगढ़ जिले की 11 लाख हेक्टेयर कृषि भूमि को मां नर्मदा के जल से सिंचित किया जाएगा। कार्यपालन यंत्री जेएस राणावत और सहायक यंत्री कमलेश प्रसन्नो ने ड्रिप एवं स्प्रिंकलर सिंचाई पद्धति द्वारा कम पानी से अधिक सिंचाई क्षेत्र विकसित करने की उपयोगिता से अवगत कराया। निर्माण एजेंसी मेघा कंस्ट्रक्शन एवं इन्फ्रास्ट्रक्चर हैदराबाद के नितिन रामचंदानी ने नर्मदा नदी को प्रदूषण से रोकने एवं संरक्षण करने के उपायों से अवगत कराया।

नदी और तालाबों को प्रदूषण मुक्त रखने की शपथ दिलाई
नोडल अधिकारी एचआर चौहान ने कार्यक्रम में उपस्थित लोगों और स्कूली छात्र-छात्राओं को नर्मदा नदी एवं तालाबों को प्रदूषण मुक्त रखने के लिए संकल्प दिलाया। कार्यक्रम में स्कूल के छात्र-छात्राओं, किसान, नर्मदा घाटी विकास विभाग के कर्मचारियों एवं निर्माण एजेंसी के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। संचालन खेडे ने किया और अंत में अनिल चौरे ने आभार व्यक्त किया।

MP में एक ही परिवार के 9 लोगों से भरी नाव नर्मदा नदी में पलटी, चंद सेकंड में डूब गईं 3 तीन जिंदगियां

Delhi Air Pollution:दिल्ली की हवा में कोई सुधार नहीं; फिर AQI खतरनाक स्तर 425 पर पहुंचा

Delhi air pollution: दिल्ली-एनसीआर में अभी स्कूल खुलेंगे या नहीं; आज लिया जा सकता है फैसला

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios