Asianet News HindiAsianet News Hindi

Shashi Tharoor की आपत्ति के बाद India ने भी दी Britain को चेतावनी: समाधान निकाले नहीं तो देंगे जवाब

17 सितंबर को ब्रिटेन ने अपना नया ट्रैवेल रूल जारी किया। इसमें कई देशों को रेड लिस्ट में रखा गया है। इसमें भारत को भी रखा गया है। ब्रिटेन ने नए नियमों के तहत 'कोविशील्ड' वैक्सीन लेने वालों को अनवैक्सीनेटेड माना जाएगा

India opposes Britain new travel rule for not giving recognition of Covishield vaccine, Congress MP Shashi Tharoor also reacted against new rule
Author
New Delhi, First Published Sep 21, 2021, 4:47 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। कोविशील्ड (CoviShield) को ब्रिटेन (Britain) द्वारा मान्यता नहीं दिए जाने संबंधी नए ट्रेवल रूल (new travel rules) पर कांग्रेस सांसद शशि थरूर (Shashi Tharoor) के मुखर होने के बाद अब भारत सरकार (Government of India) ने भी ब्रिटिश सरकार पर भेदभावपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप लगाया है। भारत सरकार ने ब्रिटेन से कहा है कि इसका समाधान निकाले अन्यथा भारत भी जवाबी कार्रवाई करेगा। डब्लूएचओ (WHO) ने भी ब्रिटेन के निर्णय पर आपत्ति जताते हुए इ पर पुनर्विचार करने को कहा है।

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला (Harshvardhan Shringla) ने मंगलवार को कहा कि यूके (UK) सरकार का कोविशील्ड को मान्यता नहीं देने का निर्णय भेदभावपूर्ण है। यह भारत के पारस्परिक उपाय करने के अधिकार के भीतर आता है। 
श्रृंगला ने कहा, 'कोविशील्ड की गैर-मान्यता एक भेदभावपूर्ण नीति है। यह निर्णय यूके की यात्रा करने वाले हमारे नागरिकों को प्रभावित करती है। विदेश मंत्री ने ब्रिटेन के नए विदेश सचिव के समक्ष इस मुद्दे को मजबूती से उठाया है। मुझे बताया गया है कि कुछ आश्वासन दिए गए हैं कि इस मुद्दे को सुलझा लिया जाएगा।'

ब्रिटेन ने जारी किया नया ट्रेवल रूल

17 सितंबर को ब्रिटेन ने अपना नया ट्रैवेल रूल जारी किया। इसमें कई देशों को रेड लिस्ट में रखा गया है। इसमें भारत को भी रखा गया है। ब्रिटेन ने नए नियमों के तहत 'कोविशील्ड' वैक्सीन लेने वालों को अनवैक्सीनेटेड माना जाएगा। हालांकि, ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका वैक्सीनेटेड लोगों को मान्यता दी गई है। 

इंडिया में अधिकतर लोगों ने ली कोविशील्ड डोज

भारत में अधिकतर लोगों को कोविशील्ड वैक्सीन ही लगी है। कोविशील्ड ब्रिटेन के एस्ट्राजेनेका वैक्सीन का ही भारतीय वर्जन है। इसे भारत में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने बनाया है लेकिन ब्रिटेन ने इसको मान्यता नहीं दी है। 

डब्ल्यूएचओ ने भी जताई आपत्ति

डब्लूएचओ (WHO) ने भी ब्रिटेन के निर्णय पर आपत्ति जताते हुए इ पर पुनर्विचार करने को कहा है। डब्लूएचओ ने कहा है कि कोविशील्ड डब्लूएचओ की इमरजेंसी वैक्सीन की लिस्ट में शामिल है। इसलिए इस वैक्सीन को मान्यता न देना पूरी तरह से गलत है। डब्लूएचओ की इमरजेंसी लिस्ट में शामिल सभी वैक्सीन को मान्यता दी जानी चाहिए। 

यह भी पढ़ें:

भारत दौरे पर आए CIA चीफ और टीम थी रहस्यमय बीमारी Havana Syndrome की शिकार

Azadi ka Amrit Mahotsav: लिक्विड ऑक्सीजन का ट्रांसपोर्ट अब ISO कंटेनर्स से हो सकेगा

TMC नेता सुष्मिता देव का Rajya Sabha में निर्विरोध जाना तय, BJP को नहीं मिला जिताऊ कैंडिडेट

पंजाब सीएम चन्नी का ऐलान: जनता बाहर खड़ी रहे और कलक्टर अंदर चाय पीये, ऐसा नहीं चलेगा, बेरोकटोक मिलेगी जनता

आजादी का अमृत महोत्सव: 75 साल पहले स्वराज के लिए काम किया, अब आत्मनिर्भर बनने के लिए करना होगा काम

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios