Asianet News HindiAsianet News Hindi

भारत का G20 लोगो लांच: पीएम मोदी ने बताया कमल वाले logo का मतलब

भारत 1 दिसंबर, 2022 से जी20 की अध्यक्षता ग्रहण करेगा। जी20 की अध्यक्षता भारत को अंतरराष्ट्रीय महत्व के महत्वपूर्ण मुद्दों पर वैश्विक एजेंडे में योगदान करने का एक अनूठा अवसर प्रदान करेगी। दरअसल, जी20 अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष(International Monetary Fund) और विश्व बैंक के प्रतिनिधियों के साथ 19 देशों तथा यूरोपीय संघ का एक अनौपचारिक समूह है। 

India to President G20 from 1st December, PM Modi launches logo, Theme and website of G20 India Presidentship, DVG
Author
First Published Nov 8, 2022, 4:44 PM IST

G20 logo of Indian Presidentship: भारत को जी20 की अध्यक्षता मिलने वाली है। 1 दिसंबर को यह उपलब्धि हासिल होने वाली है। भारत की अध्यक्षता के लिए जी20 का थीम, लोगो व वेबसाइट बनाया गया है। भारत की जी20 की अध्यक्षता के लोगो, थीम और वेबसाइट का अनावरण मंगलवार को किया गया। पीएम नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से लोगो, थीम व वेबसाइट का अनावरण किया।प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत जी20 की अध्यक्षता ग्रहण करने के लिए तैयार है और यह 130 करोड़ भारतीयों के लिए गर्व का क्षण है। भारत को जी20 की मिली अध्यक्षता उस समय मिल रही जब दुनिया एक घातक महामारी से उबर रही है, युद्ध और आर्थिक अनिश्चितता का सामना कर रही है। यह लोगो यह दर्शा रहा है कि कोई भी परिस्थिति हो, कमल कभी भी खिलता है। 

जी20 के लिए भारत के लोगों के बारे में बताया मोदी ने...

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के G20 अध्यक्षता के लिए लोगो का अनावरण करते हुए उसके बारे में बताया कि कमल के फूल की सात पंखुड़ियां, विश्व के सात महाद्वीपों और संगीत के सात सुरों का प्रतिनिधित्व कर रहा है। उन्होंने कहा कि यह लोगो, दुनिया को एका का संदेश देगा क्योंकि  कमल भारत की सांस्कृतिक विरासत और दुनिया को एक साथ लाने में विश्वास को चित्रित करता है। उन्होंने कहा, 'मैं भारत के G20 की अध्यक्षता के ऐतिहासिक अवसर पर देशवासियों को बधाई देता हूं।' 'वसुधैव कुटुम्बकम' दुनिया के लिए भारत की करुणा का प्रतीक है। पीएम मोदी ने लोगो को विस्तार से बताते हुए कहा कि यह G20 लोगो सिर्फ एक प्रतीक नहीं है, यह एक संदेश है, एक भावना है जो हमारी नसों में दौड़ रही है। यह एक संकल्प है, जिसे अब हमारे विचारों में शामिल किया जा रहा है।

यह भारत के लिए गौरव का क्षण

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत जी20 की अध्यक्षता ग्रहण करने के लिए तैयार है और यह 130 करोड़ भारतीयों के लिए गर्व का क्षण है। भारत को जी20 की मिली अध्यक्षता उस समय मिल रही जब दुनिया एक घातक महामारी से उबर रही है, युद्ध और आर्थिक अनिश्चितता का सामना कर रही है। यह लोगो यह दर्शा रहा है कि कोई भी परिस्थिति हो, कमल कभी भी खिलता है। 

1 दिसंबर को भारत के पास होगी जी20 की अध्यक्षता

भारत 1 दिसंबर, 2022 से जी20 की अध्यक्षता ग्रहण करेगा। जी20 की अध्यक्षता भारत को अंतरराष्ट्रीय महत्व के महत्वपूर्ण मुद्दों पर वैश्विक एजेंडे में योगदान करने का एक अनूठा अवसर प्रदान करेगी। दरअसल, जी20 अंतरराष्ट्रीय आर्थिक सहयोग का एक प्रमुख मंच है। यह अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष(International Monetary Fund) और विश्व बैंक के प्रतिनिधियों के साथ 19 देशों तथा यूरोपीय संघ का एक अनौपचारिक समूह है। यह ग्लोबल जीडीपी का लगभग 85 प्रतिशत, ग्लोबल ट्रेड का 75 प्रतिशत से अधिक और विश्व की लगभग दो-तिहाई आबादी का प्रतिनिधित्व करता है। 

जी20 की अध्यक्षता के बाद करीब 200 मीटिंग होगी

जी20 की अध्यक्षता के दौरान भारत देशभर में विभिन्न स्थानों पर 32 विभिन्न क्षेत्रों से संबंधित लगभग 200 बैठकें आयोजित करेगा। अगले साल होने वाला जी20 शिखर सम्मेलन भारत द्वारा आयोजित किया जाने वाला शीर्ष स्तर के अंतररष्ट्रीय सम्मेलनों में से एक होगा।   

कौन-कौन हैं जी20 देश...

G20 के सदस्य देशों में अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, कोरिया गणराज्य, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका, और यूरोपीय संघ शामिल है।

यह भी पढ़ें:

देश मनमोहन सिंह का हमेशा रहेगा ऋणी...केंद्रीय मंत्री गडकरी ने पूर्व पीएम की उदार आर्थिक नीति की जमकर की तारीफ

बीजेपी पर लगे TRS विधायकों की खरीद के आरोपों की जांच करेगी पुलिस, तेलंगाना हाईकोर्ट ने दिया आदेश

कर्नाटक कोर्ट का बड़ा आदेश, Congress और Bharat Jodo Yatra का Twitter अकाउंट होगा ब्लॉग

फारसी शब्द 'हिंदू' का अर्थ 'अश्लील' होता है...कर्नाटक कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष के बिगड़े बोल

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios