Asianet News HindiAsianet News Hindi

जीवन में बनी रहे प्रगति.. भगवान गणेश से सीख सकते हैं सफलता से जुड़े ये खास मंत्र

Ganesh Chaturthi 2022: कहा जाता है कि भगवान गणेश गुणों की खान हें। शुभ काम शुरू करना हो या जीवनपथ में विघ्न आ रहे हैं, तो हम सभी विघ्नहर्ता भगवान गणेश की शरण में जाते हैं। उनका हर गुण हमें जीवन में सफलता का मंत्र देता है। 

Ganesh Chaturthi 2022 learn these lesson and mantra from lord ganesh for Success in life apa
Author
New Delhi, First Published Aug 26, 2022, 7:36 AM IST

ट्रेंडिंग डेस्क। Ganesh Chaturthi 2022:  देशभर में गणेश चतुर्थी की धूम है। उन्हें विघ्नहर्ता और भक्तों को सुख प्रदानन करने वाला भी कहा जाता है। ऐसी मान्यता है कि भगवान गणेश सुख, समृद्धि और ज्ञान के प्रतीक माने जाते हैं। उनके शरीर का हर अंग बेहद खास है और सभी के कुछ न मायने हैं। जैसे कि बड़े सिर का मतलब बड़ी सोच और तीव्र बुद्धि, बड़े कान यानी हर अच्छी-बुरी आहट को सुन लेने वाले, तेज आंखें दूर दृष्टा। ऐसी बहुत सी खास बातें हैं उनकी और उनके शरीर से जुड़ी। उनके गुण अगर हम जीवन में आत्मसात कर लें, तो सफलता के पथ पर आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकेगा। 

बहरहाल, भगवान गणेश जी के गुणों को हम सभी को अपने जीवन में अपनाने का प्रयत्न करना चाहिए, जिससे प्रगति और सफलता के पथ पर आगे बढ़ा जा सके। उनका प्रत्येक गुण हमें सफल जीवन का मंत्र देता है। उनके जीवन से जो हमें सीखना चाहिए वह है हर परिस्थिति में खुश रहने की कोशिश करना। मुश्किल समय में भी खुश रहिए। इससे कठिन से कठिन वक्त भी निकल जाएगा। 

धैर्य रखिए, शांत मन से सोचिए 
किसी भी परिस्थिति में रहिए धैर्य मत खोइए और यह बात गणेश जी का दूसरे सबसे बड़ा गुण है। धैर्य की वह चीज है, जा आपको कठिन वक्त में सही दिशा में आगे बढ़ने की राह दिखाता है। बहुत से लोग आज ऐसे हैं, जब थोड़ा सा कठिन वक्त आता है, तो उनका धैर्य जवाब दे जाता है, इससे कई तरह के उन्हें और उनसे जुड़े लोगों को नुकसान उठाने पड़ते हैं। अगर धैर्य रखें तो बड़ा से बड़ा संकट भी टल जाता है। इसके अलावा, धैर्य के साथ-साथ शांति बनाए रखें। अगर आप कठिन वक्त में शांत मन से सोचे-विचारेंगे, तो सही निर्णय लेने की शक्ति मिलेंगी और आप मुसीबत से पार पा लेंगे। 

सबको समान सम्मान दें और विवेकपूर्ण फैसले लें 
हमेशा न्याय प्रिय रहें और दूसरों संग न्याय करें। किसी भी दशा में किसी से भी भेदभाव नहीं करें। फिर, चाहे कोई छोटा हो या बड़ा। गणेश जी जितना प्यार मूषकराज से करते थे, उतना की प्यार नंदी से भी करते थे। यानी हर किसी को बराबर सम्मान दिया जाए। इसके अलावा, जीवन में क्या सही है और क्या गलत इसे सोच-विचारकर पूरे विवेक से निर्णय करना चाहिए और तभी आगे बढ़ना चाहिए। 

हटके में खबरें और भी हैं..

पार्क में कपल ने अचानक सबके सामने निकाल दिए कपड़े, करने लगे शर्मनाक काम 

किंग कोबरा से खिलवाड़ कर रहा था युवक, वायरल वीडियो में देखिए क्या हुआ उसके साथ 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios