Asianet News Hindi

गंभीर रोग और अकाल मृत्यु का डर खत्म करते हैं ये नृसिंह मंत्र, ऐसे करें इनका जाप

भगवान नृसिंह विष्णुजी के उग्र अवतार माने जाते है। इनकी पूजा और मंत्र जाप से शत्रुओं का नाश होकर कोर्ट-कचहरी के मुकदमे आदि में विजय प्राप्त होती है। नृसिंह मंत्र से तंत्र-मंत्र बाधा, भूत पिशाच भय, अकाल मृत्यु का डर, असाध्य रोग आदि से छुटकारा मिलता है। वर्तमान में कोरोना के कारण जो स्थिति बन रही है, उससे बचने के लिए भी इन मंत्रों का जाप किया जा सकता है।

These Narasimha mantras eliminate the fear of serious diseases and premature death, chant them in this way KPI
Author
Ujjain, First Published May 6, 2021, 11:54 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. भगवान नृसिंह विष्णुजी के उग्र अवतार माने जाते है। इनकी पूजा और मंत्र जाप से शत्रुओं का नाश होकर कोर्ट-कचहरी के मुकदमे आदि में विजय प्राप्त होती है। नृसिंह मंत्र से तंत्र-मंत्र बाधा, भूत पिशाच भय, अकाल मृत्यु का डर, असाध्य रोग आदि से छुटकारा मिलता है। वर्तमान में कोरोना के कारण जो स्थिति बन रही है, उससे बचने के लिए भी इन मंत्रों का जाप किया जा सकता है। ये हैं वो मंत्र और इनके जाप की विधि…

बीज मंत्र
1. 'श्रौं'/ क्ष्रौं

इस बीज मंत्र में क्ष् = नृसिंह, र् = ब्रह्म, औ = दिव्यतेजस्वी, एवं बिंदु = दुखहरण है। इस बीज मंत्र का अर्थ है ‘दिव्यतेजस्वी ब्रह्मस्वरूप श्री नृसिंह मेरे दुख दूर करें'।

2. संकटमोचन नृसिंह मंत्र
ध्याये न्नृसिंहं तरुणार्कनेत्रं सिताम्बुजातं ज्वलिताग्रिवक्त्रम्।
अनादिमध्यान्तमजं पुराणं परात्परेशं जगतां निधानम्।।

अगर आप कई संकटों से घिरे हुए हैं तो श्री नृसिंह प्रतिमा की पूजा करके संकटमोचन नृसिंह मंत्र का स्मरण करें। समस्त संकटों से आसानी से छुटकारा मिल जाएगा।

3. अन्य नृसिंह मंत्र
ॐ उग्रं वीरं महाविष्णुं ज्वलन्तं सर्वतोमुखम्।
नृसिंहं भीषणं भद्रं मृत्यु मृत्युं नमाम्यहम्॥

इस मंत्र के जाप से अकाल मृत्यु का भय दूर होता है और गंभीर रोगों से मुक्ति मिलती है।

मंत्र जाप की विधि
1.
इस मंत्रों का जाप रात के समय करना चाहिए। मंत्र जाप शुरू करने से पहले स्नान आदि कर शुद्ध हो जाएं और साफ वस्त्र पहनें।
2. मंत्र जाप के दौरान देसी घी का दीपक जलाएं। ये दीपक मंत्र जाप के दौरान लगातार जलते रहना चाहिए।
3. कम से कम 11 माला जाप अवश्य करें। मंत्र जाप के लिए लाल तुलसी की माला का उपयोग करें।
4. मंत्र जाप शुरू करने के प्रथम दिन 2 लड्डू, 2 लौंग, 2 मीठे पान और 1 नारियल भगवान नृसिंह को चढ़ाएं।
5. अंतिम दिन दशांश हवन करें। अगर दशांश हवन संभव ना हो तो पचास हजार मंत्र संख्या और जपें।

Asianet News का विनम्र अनुरोधः आइए साथ मिलकर कोरोना को हराएं, जिंदगी को जिताएं...। जब भी घर से बाहर निकलें माॅस्क जरूर पहनें, हाथों को सैनिटाइज करते रहें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। वैक्सीन लगवाएं। हमसब मिलकर कोरोना के खिलाफ जंग जीतेंगे और कोविड चेन को तोडेंगे। 
#ANCares #IndiaFightsCorona

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios