Asianet News HindiAsianet News Hindi

यूपी में Jinnah का जिन्न: Owaisi का BJP को चुनौती, अखिलेश को पढ़ने की नसीहत, कासगंज घटना पर UP सरकार को घेरा

कासगंज की घटना को लेकर यूपी पुलिस पर निशाना साधते हुए एआईएमआईएम प्रमुख ने कहा, "कासगंज की घटना आपके सामने है... अल्ताफ को पुलिस ने मार डाला। आप जांच करना नहीं जानते बल्कि हत्या करना जानते हैं।"

AIMIM Chief Asaduddin Owaisi remarks on India partition and Jinnah issue, Kasganj Police custody death mystery, Challenges BJP RSS, UP Assembly Elections 2022 DVG
Author
Muradabad, First Published Nov 12, 2021, 7:44 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुरादाबाद। यूपी में विधानसभा चुनाव (UP Assembly Elections 2022) की आहट शुरू होते ही विवादित बयानों की झड़ी लग चुकी है। यहां जिन्ना को लेकर चल रही बयानबाजी के बीच AIMIM के मुखिया व सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) भी कूद पड़े हैं। उन्होंने आरएसएस (RSS), बीजेपी (BJP) और सपा (Samajwadi Party) के नेताओं को इतिहास न पढ़ने वाला बताया है। ओवैसी ने कहा कि बंटवारे का कारण मुसलमान नहीं बल्कि जिन्ना थे। लेकिन हमारे राजनीतिज्ञ इतिहास पढ़ते ही नहीं। 

अखिलेश को नसीहत और बीजेपी को चुनौती

दरअसल, ओवैसी मुरादाबाद (Muradabad) में एक रैली को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मैं आरएसएस, बीजेपी और सपा के लोगों को चुनौती देता हूं जो पढ़ते नहीं हैं। बंटवारा मुसलमानों के कारण नहीं बल्कि जिन्ना के कारण हुआ। उस समय केवल वही मुसलमान वोट कर सकते थे जो प्रभावशाली, नवाब या डिग्री धारक थे। कांग्रेस और उस समय के नेता बंटवारे के लिए जिम्मेदार थे। औवैसी ने अखिलेश को पढ़ने की नसीहत दे डाली।

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि अखिलेश यादव ने जिन्ना का जिक्र किया, आप (अखिलेश) पढ़ लीजिए सरदार पटेल, नेहरू, गांधी और जिन्ना सब बैरिस्टर थे। भारत को तोड़ने वाले और पाकिस्तान को बनाने वाले का नाम जिन्ना था। उम्मीद है आप दोबारा ऐसी गलती नहीं करेंगे। 

ओम प्रकाश राजभर और अखिलेश ने छेड़ा था जिन्ना राग

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रमुख ओम प्रकाश राजभर (Om Prakash Rajbhar) ने बयान दिया था कि मोहम्मद अली जिन्ना को भारत का पहला प्रधान मंत्री बनाया गया होता तो विभाजन नहीं होता। राजभर ने बंटवारे की राजनीति के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को भी जिम्मेदार ठहराया है। बता दें कि समाजवादी पार्टी और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP) ने 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों से पहले गठबंधन का निर्णय लिया है।

कासगंज की घटना को लेकर भी यूपी पुलिस पर निशाना

कासगंज की घटना को लेकर यूपी पुलिस पर निशाना साधते हुए एआईएमआईएम प्रमुख ने कहा, "कासगंज की घटना आपके सामने है... अल्ताफ के पिता को बताया गया था कि उनके बेटे ने थाने में खुदकुशी करके 2.5 फीट ऊंचे पानी के नल से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। कासगंज पुलिस ने उसे मार डाला। आप जांच करना नहीं जानते बल्कि हत्या करना जानते हैं।"

यह भी पढ़ें

Kangana Ranaut के 'भिक्षा में मिली आजादी' वाले बयान पर बवाल, आप ने मुंबई पुलिस से की शिकायत, देशद्रोह का मामला दर्ज करने की मांग

Kangna controversy : कंगना की भीख वाली आजादी बयान पर वरुण बोले - इसे पागलपन कहूं या देशद्रोह

Defence Industrial Corridor: यूपी में ब्रह्मोस एयरोस्पेस और भारत डायनेमिक्स लिमिटेड को जमीन आवंटित

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios