Asianet News HindiAsianet News Hindi

चीन की तालिबान से दोस्ती भारी न पड़ जाए: IS-K का आरोप चीनी दबाव में अफगानिस्तान कर रहा उइगरों को डिपोर्ट

उइगर चीनी शिनजियांग क्षेत्र के मूल निवासी हैं। उइगर समुदाय के लोग सालों से चीन से आजादी की लड़ाई लड़ रहे हैं। कई उइगर लड़ाके चीन पर हमला करने के लिए अफगानिस्तान की जमीन का इस्तेमाल करते रहे हैं।

China friendship with Taliban can be harmful, IS-K alleges uyghurs are being deported from Afghanistan under Chinese pressure
Author
Kabul, First Published Oct 26, 2021, 10:45 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

काबुल। अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान (Taliban) का साथ देना कहीं चीन को भारी न पड़ जाए। इस्लामिक स्टेट ऑफ खोरासन (IS-K) ने चीन (China) को उइगर मुसलमानों (Uyghurs Muslims) के उत्पीड़न के खिलाफ चेतावनी दी है। IS-K का आरोप है कि चीन द्वारा अफगानिस्तान से उइगरों को वापस डिपोर्ट करने को लेकर तालिबान सरकार पर दबाव बनाया गया है।

चीन के मूल निवासी हैं उइगर

उइगर चीनी शिनजियांग क्षेत्र के मूल निवासी हैं। उइगर समुदाय के लोग सालों से चीन से आजादी की लड़ाई लड़ रहे हैं। कई उइगर लड़ाके चीन पर हमला करने के लिए अफगानिस्तान की जमीन का इस्तेमाल करते रहे हैं। ऐसे में इस्लामिक स्टेट उइगर लोगों का इस्तेमाल कर एक साथ तालिबान और चीन को टारगेट कर रहा है।

आईएस से जुड़े उइगर चरमपंथियों से खौफ खाता

चीन 2014 से अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट से जुड़े उइगर चरमपंथियों से खौफ खाता है। चूंकि अब तक चीन, अफगानिस्तान, इराक और सीरिया जैसे देशों से दूर ही रहा है ऐसे में इस्लामिक स्टेट को बीजिंग से कोई खास खतरा नहीं महसूस हुआ है। लेकिन बदले हुए हालात में इस्लामिक स्टेट के लिए अफगानिस्तान में बड़ा खतरा नजर आ रहा है।

हालांकि, पहले इस्लामिक स्टेट अपने प्रतिद्वंदी अल कायदा की तुलना में उइगरों की भर्ती करने में बहुत सफल नहीं रहे हैं। लेकिन तालिबान और चीन की दोस्ती को देखते हुए इस्लामिक स्टेट और उइगर चरमपंथियों को अधिक खतरा महसूस हो रहा है। माना जा रहा है कि इस्लामिक स्टेट और उइगर दोनों मिलकर चीन को निशाना बना सकते हैं।

बता दें कि काबुल पर तालिबान के कब्जे से पहले तक तुर्किस्तान इस्लामिक पार्टी से जुड़े उइगर और तालिबान के बीच बेहतर रिश्ते रहे हैं। लेकिन चीन के तालिबान से बेहतर रिश्ते होने के बाद अब अफगानिस्तान के उइगर आईएस-के से जुड़ रहे। 

8 अक्टूबर को कुंदुज में एक शिया मस्जिद पर आत्मघाती हमला हुआ। इस हमले में 70 से अधिक लोग मारे गए और 150 से अधिक लोग घायल हो गए। हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ऑफ खोरासन ने ली। हमलावर की पहचान मुहम्मद अल उइगरी के रूप में हुआ। 

यह भी पढ़ें:

बुलेटप्रुफ हटाकर बोले शाह-मैं पाकिस्तान से नहीं, आपसे बात करने आया हूं

तालिबान-आईएस में संघर्ष: हेरात प्रांत में 17 लोग मारे गए

टी20 विश्व कप: योग गुरु रामदेव-राष्ट्रहित और राष्ट्रधर्म के खिलाफ है भारत-पाकिस्तान मैच

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios