Asianet News HindiAsianet News Hindi

चाणक्य नीति: अपने से शक्तिशाली शत्रु का सामना कैसे करें और किन बातों रखें ध्यान?

आचार्य चाणक्य ने अपने जीवन में अच्छी और बुरी दोनों परिस्थितियों का सामना किया परंतु कभी भी अपना आत्मविश्वास कम नहीं होने दिया।

Know from Chanakya Niti, how to handle enemy powerful then yourself KPI
Author
Ujjain, First Published Jul 29, 2021, 8:50 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. चाणक्य ने अपने शत्रुओं पर विजय हासिल करके इतिहास की धारा को एक नया मोड़ दिया। चाणक्य नीति में बहुत ही प्रभावशाली बातों का उल्लेख किया गया है जिससे आप अपने शत्रु पर विजय हासिल कर सकते हैं। आगे जानिए इससे जुड़ी कुछ खास नीतियां… 

शक्तिशाली शत्रु का कैसे करें सामना?
जब शत्रु आपसे अधिक शक्तिशाली हो तो उस समय छिप जाना चाहिए और सही समय आने का प्रतीक्षा करनी चाहिए। उसके बाद स्वयं की शक्ति को बढ़ाने के विषय में कार्य करना चाहिए एवं अपने शुभचिंतकों को एकत्रित करने के बाद रणनीति बनानी चाहिए और शत्रु पर वार करना चाहिए। 

शत्रु की गतिविधियों पर नजर रखें नजर
चाणक्य के अनुसार शत्रु की प्रत्येक गतिविधि पर नजर रखकर उसकी कमजोरियों का पता लगाकर उसे परास्त किया जा सकता है, इसलिए शत्रु की गतिविधियों पर नजर रखें और समय आने पर उसे पराजित करें।

छिपे हुए शत्रु को कैसे पराजित करें?
हर सफल व्यक्ति के शत्रु अवश्य होते हैं। जिनमें से कुछ शत्रुओं के बारे में हमें पता होता है तो वहीं कुछ अज्ञात शत्रु भी होते हैं। ये शत्रु आपको सीधे नुकसान न पहुंचाकर छिपकर वार करते हैं। ऐसे शत्रु बहुत ज्यादा घातक साबित होते हैं। ऐसे शत्रुओं का पता लगाने के लिए बहुत सतर्क रहने की आवश्यकता होती है। अचानक वार होने पर घबराने की बजाय शत्रु की हर चाल का डटकर मुकाबला करना चाहिए।

चाणक्य नीति के बारे में ये भी पढ़ें

चाणक्य नीति: सुखी जीवन के लिए हमेशा ध्यान रखें पैसों से जुड़ी ये 5 बातें

चाणक्य नीति: इन 4 कामों में पुरुषों से कहीं आगे होती हैं महिलाएं

आचार्य चाणक्य ने 2 सूत्रों में बताया है कैसा होना चाहिए विवाहित महिलाओं का आचरण

चाणक्य नीति: चाहते हैं बनी रहे महालक्ष्मी की कृपा तो ध्यान रखें ये 4 बातें

चाणक्य नीति: इन 4 लोगों के सामने न करें धन और व्यापार की बातें, बाद में पछताना पड़ सकता है

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios