Mahabharata: वो कौन-से 2 योद्ध थे जो महाभारत युद्ध में शामिल नहीं हुए? जानें कारण भी

| Dec 09 2022, 06:15 AM IST

Mahabharata: वो कौन-से 2 योद्ध थे जो महाभारत युद्ध में शामिल नहीं हुए? जानें कारण भी
Mahabharata: वो कौन-से 2 योद्ध थे जो महाभारत युद्ध में शामिल नहीं हुए? जानें कारण भी
Share this Article
  • FB
  • TW
  • Linkdin
  • Email

सार

Mahabharata: महाभारत युद्ध में दो सेनाएं आमने-सामने थी कौरवों और पांडवों की, लेकन इन 2 सेनाओं में न सिर्फ भारत के बल्कि विदेश के राजा-महाराजा भी शामिल हुए थे। चीन और यूनान से भी कई महारथी इस युद्ध में आए थे।
 

उज्जैन. महाभारत (Mahabharata) के अनुसार, जब कौरवों और पांडवों के बीच युद्ध हुआ तय हो गया तो दोनों पक्ष अपने-अपने मित्रों को सहायता के लिए बुलाने लगे। युद्ध में शामिल होने के लिए न सिर्फ भारत के अलग-अलग राज्यों के राजा आने लगे बल्कि चीन और यूनान आदि देशों के राजा भी अपने-अपने मित्रों के बुलावे पर कुरुक्षेत्र में आकर डंट गए। ऐसी स्थिति में भारत के सिर्फ 2 योद्धा ऐसे थे, जो धर्म-अधर्म के इस युद्ध में शामिल नहीं हो पाए। ये दोनों ही भगवान श्रीकृष्ण के सगे-संबंधी थे। आगे जानिए उन दोनों योद्धाओं के बारे में जो महाभारत युद्ध से दूर रहे…

जब बलराम के सामने आया धर्म संकट
- बलराम को जब पता चला कि कौरवों और पांडवों के बीच युद्ध तय हो गया है तो वे धर्म संकट में पड़ गए क्योंकि एक तरफ तो उनकी बुआ कुंती के पुत्र पांडव थे और दूसरी ओर उनका प्रिय शिष्य दुर्योधन। 
- श्रीकृष्ण पहले ही पांडवों के पक्ष में जा चुके थे। ऐसे में पांडवों का साथ देकर बलराम दुर्योधन का अहित नहीं करना चाहते थे और दुर्योधन के पक्ष में रहकर अपने भाई से युद्ध भी नहीं करना चाहते थे। 
- धर्म संकट से बचने के लिए बलराम युद्ध शुरू होने से पहले ही तीर्थ यात्रा पर निकल गए। अंत समय में जब भीम और दुर्योधन का गदा युद्ध हो रहा था, उस समय बलराम वहां आए थे। 

Subscribe to get breaking news alerts

रुक्मी को अपने पराक्रम पर था अभिमान
-रुक्मी कुण्डिनपुर का राजकुमार और श्रीकृष्ण की पत्नी रुक्मिणी का भाई था। वह भी महान पराक्रमी योद्धा था। उसके पास इंद्र द्वारा दिया गया विजय नाम का धनुष था। जब उसे युद्ध के बारे में पता चला तो वह सेना सहित पहले पांडवों के पास गया। 
- राजा युधिष्ठिर ने उसका बहुत मान-सम्मान किया। रुक्मी यहां अपने बल-पराक्रम की बातें बढ़-चढ़कर बताने लगा। पांडव समझ गए कि रुक्मी को अपने युद्ध कौशल पर कुछ ज्यादा ही अहंकार है। इसलिए उन्होंने रुक्मी की सहायता लेने से इंकार कर दिया। 
- इसके बाद रुक्मी दुर्योधन के पास गया। यहां भी उसने वैसी ही बातें की, जैसी उसने पांडवों के सामने कही थी। तब दुर्योधन ने भी रुक्मी की सहायता लेने से मना कर दिया। इस तरह रुक्मी चाहकर भी महाभारत युद्ध में शामिल नहीं हो पाया।  


ये भी पढ़ें-

हमेशा ध्यान रखें ये 6 बातें, कभी असफलता का मुंह नहीं देखना पड़ेगा

इन 5 बातों पर रखेंगे कंट्रोल तो बाद में पछताना नहीं पड़ेगा

Mahabharata: इस योद्धा को मारने वाले की मृत्यु भी निश्चित थी, तो फिर श्रीकृष्ण ने कैसे बचाया अर्जुन को?


Disclaimer : इस आर्टिकल में जो भी जानकारी दी गई है, वो ज्योतिषियों, पंचांग, धर्म ग्रंथों और मान्यताओं पर आधारित हैं। इन जानकारियों को आप तक पहुंचाने का हम सिर्फ एक माध्यम हैं। यूजर्स से निवेदन है कि वो इन जानकारियों को सिर्फ सूचना ही मानें। आर्टिकल पर भरोसा करके अगर आप कुछ उपाय या अन्य कोई कार्य करना चाहते हैं तो इसके लिए आप स्वतः जिम्मेदार होंगे। हम इसके लिए उत्तरदायी नहीं होंगे।