Asianet News Hindi

CISCE Board: छह साल के एकेडमिक रिकॉर्ड से बनेगा रिजल्ट, 2015 से 21 तक देखा जाएगा स्टूडेंट का प्रदर्शन

बोर्ड ने यह भी जानकारी दी कि 30 जुलाई तक 12वीं के परीक्षा परिणाम जारी कर दिए जाएंगे। अगर कोई स्टूडेंट्स मार्किंग के फॉर्मूले से खुश नहीं है तो  कोरोना के हालात सामान्य होने के बाद फिर से परीक्षा देने का मौका दिया जाएगा। 

cisce declares marking scheme for class 12th result pwa
Author
New Delhi, First Published Jun 17, 2021, 7:16 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

करियर डेस्क. कोरोना संक्रमण के कारण रद्द हुए CBSE बोर्ड बोर्ड का रिजल्ट किस आधार पर बनेगा इसकी घोषणा कर दी गई है। इसके साथ ही काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (CISCE) ने  सुप्रीम कोर्ट में बताया है किस तरह से 12वीं का रिजल्ट तैयार किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें- 10वीं, 11वीं और 12वीं प्री बोर्ड के आधार पर जारी होगा CBSE 12वीं का रिजल्ट, 31 जुलाई को जारी होगा परिणाम

CISCE ने बताया कि स्टूडेंट्स के छह साल के एकेडमिक रिकॉर्ड के आधार पर 12वीं का रिजल्ट तैयार किया जाएगा। बोर्ड ने जस्टिस ए एम खानविलकर और जस्टिस दिनेश माहेश्वरी की बेंच को बताया कि 12वीं का रिजल्ट छह सालों (2015-2021) के दौरान स्टूडेंट के बेस्ट प्रदर्शन का आकलन करेगा।

30 जुलाई को जारी होगा रिजल्ट
बोर्ड ने यह भी जानकारी दी कि 30 जुलाई तक 12वीं के परीक्षा परिणाम जारी कर दिए जाएंगे। अगर कोई स्टूडेंट्स मार्किंग के फॉर्मूले से खुश नहीं है तो  कोरोना के हालात सामान्य होने के बाद फिर से परीक्षा देने का मौका दिया जाएगा। वहीं, CBSE जहां स्टूडेंट के तीन साल का परफॉर्मेंस देखेगा। CBSE 12वीं के छात्रों के मूल्यांकन के लिए 30:30:40 का फॉर्मूला तय किया है। इसके अनुसार, 10वीं के 3 विषयों और 11वीं के फाइनल रिजल्ट को 30 प्रतिशत वेटेज दिया जाएगा और 12वीं के प्री- बोर्ड एग्जाम को 40 प्रतिशत वेटेज के आधार पर रिजल्ट तैयार होगा। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios