Asianet News HindiAsianet News Hindi

पुलिस की गिरफ्त में दिख रही इस महिला की तस्वीर के साथ बोला जा रहा बड़ा झूठ, जानें क्या है पूरा सच?

दावा किया जा रहा है कि वायरल तस्वीर में दिख रही महिला ने बलात्कार करने वालों की हत्या की है। जबकि कहानी कुछ और ही है। ये मामला (Girish Murder Case) से जुड़ा है। तस्वीर में दिख रही महिला  शुभा शंकरनारायण (Advocate Shubha Shankarnarayan) है। 

Picture of Shubha Shankarnarayan convicted of Girish murder case went viral with a false claim kpn
Author
New Delhi, First Published Nov 28, 2021, 5:49 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

क्या वायरल हो रहा है: सोशल मीडिया (Social Media) पर एक लड़की की तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके साथ दावा किया जा रहा है कि उसे उसके बलात्कारियों की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। तस्वीर के साथ कैप्शन लिखा है, हिन्दू बहादुरों इस महिला ने दो लोगों की हत्या की है जिन्होंने उसका बलात्कार (Killing Her Rapists) किया था। मुझे लगता है कि उसने जो किया वह बिल्कुल सही था। आपका क्या खयाल है? दरअसल, इस तस्वीर के साथ महिला के किए अपराध की तारीफ की जा रही है। हालांकि इसका सच कुछ और ही है।

वायरल तस्वीर का सच:

  • वायरल तस्वीर का सच जानने के लिए गूगल के रिवर्स इमेज टूल की मदद ली गई। इस दौरान कई लिंक मिले। एक लिंक के मुताबिक, अब की नहीं बल्कि साल 2003 की है। इसे बेंगलुरू में हुए गिरीश हत्या केस (Girish Murder Case 2003) से जोड़कर बताया गया है। जुलाई 2010 में डेक्कन हेराल्ड में पब्लिश एक आर्टिकल मिला, जिसमें एक ही महिला की दो तस्वीरें पब्लिश की गई थीं। 
  • महिला की तस्वीर वाला एक अन्य न्यूज आर्टिकल मिला, जिसकी हेडलाइन थी, एडवोकेट शुभा शंकरनारायण को 4 साल जेल में रहने के बाद जमानत मिली। गूगल पर एडवोकेट शुभा का नाम से सर्च किया गया तो पूरी कहानी सामने आ गई। दरअसल, तस्वीर में दिख रही महिला की कहानी 20 साल पुरानी है। नवंबर 2003 में 21 साल की कानून की छात्रा शुभा शंकरनारायण (Advocate Shubha Shankarnarayan) ने बेंगलुरु के 27 साल के सॉफ्टवेयर इंजीनियर बीवी गिरीश से सगाई कर ली। सगाई के कुछ दिनों बाद दोनों रात में खाने के लिए गए। इसी दौरान गिरीश पर हमला किया गया और अगली सुबह मृत घोषित कर दिया गया। बाद में पता चला कि शुभा ने अपने प्रेमी अरुण वर्मा और उसके दो साथियों दिनाकरन और वेंकटेश के साथ मिलकर उसकी हत्या की साजिश रची थी। चारों को जनवरी 2004 में गिरफ्तार किया गया था। सभी को हत्या के लिए दोषी ठहराया और आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई

निष्कर्ष: वायरल न्यूज की पड़ताल करने पर पता चला कि तस्वीर के साथ किया जा रहा दावा झूठा है। महिला ने अपने बलात्कारी की हत्या नहीं की थी, बल्कि अपने प्रेमी की हत्या की थी। हत्या 2003 में बेंगलुरु में हुई थी। 

ये भी पढ़ें..

Sania Aashiq: कौन है पाकिस्तान में रहने वाली 25 साल की ये विधायक, लोग इनका अश्लील वीडियो सर्च कर रहे हैं

Queen Elizabeth के बैंगनी हाथ देखकर घबराए ट्विटर यूजर्स, डॉक्टर्स ने दिया इसका जवाब

Srinagar के SSP ने चना बेचने वाले के लिए किया ऐसा काम, लोगों ने कहा- देश को ऐसा ही अधिकारी चाहिए

एक व्यक्ति अपनी मंगेतर को अश्लील मैसेज क्यों भेजता है? जानें मुंबई की सेशन कोर्ट में क्या कहा गया

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios