Asianet News HindiAsianet News Hindi

Solar Eclipse 2021: 4 दिसंबर की सुबह 11 बजे से शुरू होगा सूर्यग्रहण, जानिए इससे जुड़ी खास बातें

4 दिसंबर, शनिवार को साल 2021 का अंतिम सूर्यग्रहण (Solar Eclipse 2021) होने जा रहा है। हिंदू पंचांग के अनुसार इस दिन मार्गशीर्ष मास की अमावस्या रहेगी। पिछले महीने यानी 19 नवंबर को चंद्रग्रहण हुआ था और इस बार 4 दिसंबर को सूर्यग्रहण होगा। हालांकि न चंद्रग्रहण भारत में दिखाई दिया था और न ही सूर्यग्रहण दिखाई देगा।

Astrology Jyotish Planets Horoscope Kundli Solar Eclipse MMA
Author
Ujjain, First Published Dec 2, 2021, 10:30 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. ज्योतिषाचार्य पं. प्रफुल्ल भट्‌ट के अनुसार, 4 दिसंबर, शनिवार को होने वाला ग्रहण भारत में दिखाई न देने के कारण यहां इसका कोई भी धार्मिक और ज्योतिषीय महत्व नहीं माना जाएगा। सूतक आदि नियम इस ग्रहण के लिए मान्य नहीं होंगे। 4 दिसंबर, शनिवार को अमावस्या तिथि होने से इस दिन शनिश्चरी अमावस्या का योग बन रहा है। धार्मिक दृष्टिकोण से ये योग बहुत ही खास माना जाता है। इस दिन शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय किए जाते हैं।

जानिए क्यों होता है सूर्य ग्रहण?
पृथ्वी सूरज की परिक्रमा करती है और चांद पृथ्वी की। कभी-कभी इस प्रक्रिया में चांद सूरज और धरती के बीच में आता है। इससे सूरज की कुछ या फिर सारी रोशनी धरती पर आने से रुक जाती है और धरती पर अंधेरा फैल जाता है। इस घटना को सूर्यग्रहण कहा जाता है। यह घटना अमावस्या के दिन होती है। ज्यादातर तो चांद सूरज के कुछ भाग को ढंकता है। जिसे खंड ग्रहण कहा जाता है, लेकिन कभी-कभार ऐसा भी होता है कि जब चांद सूरज को पूरी तरह से ढंक लेता है तो इसे पूर्ण ग्रहण कहते हैं।

जानिए ग्रहण से जुड़ी खास बातें…
- साल 2021 का दूसरा और आखिरी सूर्य ग्रहण 04 दिसंबर, शनिवार को अंटार्कटिका, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिका में देखा जा सकेगा।
- भारतीय समय के अनुसार 04 दिसंबर को सूर्यग्रहण का आरंभ सुबह लगभग 11 बजे से होगा, जो 03.07 मिनट पर खत्म हो जाएगा। करीब 01 बजकर 57 मिनट पर यह ग्रहण पूर्ण रूप से चंद्रमा की छाया में रहेगा।
- हिंदू पंचांग की ज्योतिषीय गणना के आधार पर यह सूर्यग्रहण विक्रम संवत 2078 के कार्तिक माह की अमावस्या तिथि पर वृश्चिक राशि और अनुराधा नक्षत्र में लगेगा।
- भारत में इस सूर्य ग्रहण को नहीं देखा जा सकेगा। इस कारण से इसका सूतक काल भी मान्य नहीं होगा। शास्त्रों के अनुसार जब भी ग्रहण का प्रभाव जिस क्षेत्र में होता है वहां पर सूर्य ग्रहण के लगने से 12 घंटे पहले ही सूतक काल लग जाता है।

 

सूर्य ग्रहण के बारे में ये भी पढ़ें

Solar Eclipse 2021: वृश्चिक राशि में होगा साल का अंतिम सूर्यग्रहण, किस राशि पर कैसा होगा असर?


Solar Eclipse 2021: चतुर्ग्रही योग में 4 दिसंबर को होगा साल का अंतिम सूर्यग्रहण, भारत में नहीं देगा दिखाई

दिसंबर 2021 में चंद्रमा सहित ये 4 ग्रह बदलेंगे राशि, 4 दिसंबर को होगा साल का अंतिम सूर्यग्रहण

4 दिसंबर को होगा साल का अंतिम सूर्यग्रहण, जानिए कहां दिखाई देगा व अन्य खास बातें

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios