Asianet News HindiAsianet News Hindi

Vaisakhi Purnima 2022: 2 दिन रहेगी वैशाखी पूर्णिमा, 15 को व्रत और 16 को किया जाएगा स्नान दान

धर्म ग्रंथों में वैशाख मास का विशेष महत्व बताया गया है। भगवान विष्णु को प्रिय होने के कारण इस महीने को माधव मास भी कहते हैं। इस बार वैशाख मास की पूर्णिमा (Vaisakhi Purnima 2022) 15 और 16 मई को यानी 2 दिन रहेगी।

Vaisakhi Purnima 2022: Vaisakhi Purnima will remain for 2 days Vaishakhi Purnima Remedies Importance of Vaishakhi Purnima MMA
Author
Ujjain, First Published May 14, 2022, 12:51 PM IST

उज्जैन. ज्योतिषियों के अनुसार, पूर्णिमा तिथि 15 मई, रविवार को दोपहर 12.45 पर शुरू होगी। इसलिए इस दिन भगवान विष्णु की पूजा और व्रत करना शुभ रहेगा, इस दिन सूर्य संक्रांति होने से पितृ पूजा और स्नान-दान करना भी पुण्य फलदायी रहेगा। इस दिन खरीदारी, लेन-देन और निवेश के लिए शुभ मुहूर्त भी रहेगा। अगले दिन यानी 16 मई, सोमवार को उदया तिथि होने से ये दिन स्नान-दान के लिए श्रेष्ठ रहेगा। आगे जानिए वैशाख पूर्णिमा से जुड़ी खास बातें… 

16 मई को 3 शुभ योग, जानिए और भी खास बातें
- ज्योतिषियों के अनुसार, 16 मई, सोमवार को एक नहीं बल्कि 3 शुभ योग बन रहे हैं- वरियान, मित्र और सर्वार्थसिद्धि। इन तीनों योगों में पवित्र नदी में स्नान करने और जरूरतमंदों को दान करने से पुण्य फलों की प्राप्ति होगी। अन्न, जल, स्वर्ण या कपड़े का दान देने की परंपरा है।
- वैशाख पूर्णिमा पर बुद्ध पूर्णिमा का पर्व भी मनाया जाता है। बुद्ध को भी भगवान विष्णु का ही अवतार माना जाता है। इस दिन भगवान बुद्ध की विशेष पूजा अर्चना आदि की जाती है और उनके अनुयायी इस दिन प्रार्थना सभा का आयोजन भी करते हैं।
- इस बार वैशाख पूर्णिमा (16 मई, सोमवार) को चंद्रग्रहण का योग भी बन रहा है, हालांकि ये भारत में दिखाई नहीं देगा। ये साल का पहला चंद्रग्रहण होगा। चंद्र ग्रहण का आरंभ सुबह 07.58 से होगा और अंत 11.58 पर होगा। ये ग्रहण पैसिफिक, दक्षिणी/पश्चिमी यूरोप, दक्षिणी/पश्चिमी एशिया, अफ्रीका, अटलांटिक, अंटार्कटिका, हिन्द महासागर, उत्तरी व दक्षिणी अमेरिका आदि स्थानों पर देखा जाएगा।
 - वैशाख पूर्णिमा पर जल का दान खासतौर से करना चाहिए। ऐसा करने से त्रिदेव यानी ब्रह्मा, विष्णु, महेश तीनों देवता प्रसन्न होते हैं। इस समय भीषण गर्मी पड़ती है, ऐसे में प्यासे लोगों को पानी पिलाना बहुत ही पुण्य का काम माना जाता है। इससे पितरों की आत्मा को भी संतुष्टि मिलती है और वे प्रसन्न होते हैं।

ये भी पढ़ें-

Buddha Purnima 2022: बुद्ध की धरती स्पर्श करती मुद्रा में छिपा है गहरा रहस्य, जानिए इससे जुड़ी खास बातें


Buddha Purnima 2022: घर में रखें धन की पोटली पकड़े लॉफिंग बुद्धा की मूर्ति, इससे बढ़ता है गुड लक, होता है धन लाभ

Buddha Purnima 2022: घर में बुद्ध की प्रतिमा रखने से बनी रहती है सुख-शांति, जानिए और भी खास बातें

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios