Asianet News HindiAsianet News Hindi

Aghan Month Upay: 8 दिसंबर से पहले करें ये 5 उपाय, धन लाभ के साथ-साथ घर आएगी सुख-समृद्धि भी

Aghan Month Upay: हिंदू पंचांग के नौवें महीने की शुरूआत 9 नवंबर, बुधवार से हो चुकी है। से महीना 8 दिसंबर तक रहेगा। अगहन मास का महत्व कई धर्म ग्रंथों में बताया गया है। इस महीने का एक नाम मार्गशीर्ष भी है। 
 

Aghan month 2022 Aghan month remedies Shankh Ke Upay money benefits astrology MMA
Author
First Published Nov 10, 2022, 5:45 AM IST

उज्जैन. हिंदू पंचांग में साल को 12 महीनों में बांटा गया है। हर महीने का एक अलग नाम और महत्व है। इसी क्रम में साल के नौवें महीने का नाम अगहन बताया गया है, जिसे मार्गशीर्ष भी कहते हैं। इस महीने के स्वामी स्वयं भगवान श्रीकृष्ण हैं। इस महीने में शंख पूजा का विशेष महत्व है। कहते हैं कि अगहन मास (Aghan Month Upay) में यदि रोज साधारण शंख की पूजा भी विधि-विधान से की जाए भगवान श्रीकृष्ण के पांचजन्य शंख की पूजा के समान फल मिलता है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रवीण द्विवेदी के अनुसार, इस महीने में अगर शंख से जुड़ी कुछ खास उपाय किए जाएं तो धन लाभ के साथ-साथ अन्य फायदे भी हो सकते हैं। आगे जानिए इन उपायों के बारे में…

भगवान विष्णु-लक्ष्मी का अभिषेक करें
अगहन मास में प्रत्येक गुरुवार को सुबह स्नान आदि करने के बाद दक्षिणावर्ती शंख में केसर मिश्रित दूध लेकर उससे भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी की प्रतिमाओं का अभिषेक करें। इससे धन लाभ के योग बन सकते हैं। अगर दक्षिणावर्ती शंख हो तो साधारण शंख का उपयोग भी कर सकते हैं।

मंदिर में शंख का दान करें
अगहन मास में किसी विष्णु मंदिर में शंख का दान करें। ध्यान रखें शंख पूरी तरह से साफ हो यानी उसमें किसी तरह का कोई दोष नहीं होना चाहिए। उस शंख की जब-जब पूजा की जाएगी या उसे बजाया जाएगा, वैसे-वैसे आपकी परेशानियां भी दूर होती चली जाएंगी। 

मोती शंख तिजोरी में रखें
धर्म ग्रंथों में शंखों के कई प्रकार बताए गए हैं, उनमें मोती शंख भी शामिल है। इसका उपयोग धन लाभ से संबंधित उपायों में किया जाता है। अगहन मास में किसी भी दिन पहले चावल को केसर से रंग लें और बाद में इसे मोती शंख में भरकर एक लाल कपड़े में बांध लें। अब इसे अपनी तिजोरी में रख लें। इससे आपके घर में बरकत बनी रहेगी।

रोज करें शंख की पूजा
अगहन मास के दौरान रोज सुबह स्नान आदि करने के बाद शंख की पूजा करें। कुंकुम और चावल चढ़ाने के बाद इस मंत्र का जाप करें- 
त्वं पुरा सागरोत्पन्न विष्णुना विधृत: करे।
निर्मित: सर्वदेवैश्च पाञ्चजन्य नमोऽस्तु ते।
तव नादेन जीमूता वित्रसन्ति सुरासुरा:।
शशांकायुतदीप्ताभ पाञ्चजन्य नमोऽस्तु ते॥
 
शुक्र ग्रह से शुभ फल पाने के लिए
अगर आपकी कुंडली में शुक्र ग्रह कमजोर स्थिति में है तो अगहन मास में किसी भी दिन एक सफेद कपड़े में सफेद शंख, चावल व बताशे लपेटकर नदी में बहाएं। इससे शुक्र के दोष दूर होंगे और आपके जीवन में खुशहाली बनी रहेगी।


ये भी पढ़ें-

Aghan Month 2022: अगहन मास 9 नवंबर से, जानें इस महीने के महत्व और व्रत-त्योहारों के बारे में


Aghan Month 2022: 9 नवंबर से शुरू होगा हिंदू पंचांग का 9वां महीना अगहन, जानें क्यों खास है ये महीना?

Rashi Parivartan November 2022: नवंबर 2022 में कब, कौन-सा ग्रह बदलेगा राशि? यहां जानें पूरी डिटेल
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios