उज्जैन. आज हम आपको पूर्व दिशा के दोष से होने वाले नुकसान के बारे में बता रहे हैं। इन नुकसानों से बचने के लिए किसी योग्य वास्तु शास्त्री से सलाह अवश्य लेना चाहिए…

1. पूर्व दिशा में दोष या जन्मपत्री में सूर्य के पीड़ित होने पर पिता से सम्बन्धों में कटुता रहती है। पितृ दोष लगता है।
2. सरकार या शासन से परेशानी खड़ी हो सकती है। राज दंड का भय रहता है।
3. यदि सरकारी नौकरी है तो सरकारी नौकरी में परेशानी उत्पन्न हो सकती है। प्राइवेट नौकरी चली जाती है।
4. हृदय संबंधी कोई रोग, दिल का रोग हो जाता है, जैसे धड़कन का कम-ज्यादा होना।
5. चर्म रोग या स्कीन संबंधी कोई शिकायत हो सकती है या अस्थि रोग हो सकती है।
6. इस दिशा के दूषित होने से व्यक्ति अपना विवेक खो बैठता है। शरीर में अकड़न आ जाती है।
7. बार-बार पीलिया या ज्वर हो सकता है, क्षय रोग सम्भावना रहती है। मुंह एवं दांतों में तकलीफ हो जाती है।
8. पूर्व दिशा पिता का स्थान भी होता है इसलिए यदि पूर्व दिशा बंद, दबी और ढकी हो तो गृहस्वामी कष्टों से घिर जाता है।

ये वास्तु टिप्स भी पढ़ें

बच्चों के स्टडी रूम में भी हो सकता है वास्तु दोष, इन बातों का रखें खास ध्यान

वास्तु टिप्स: घर में पॉजिटिव एनर्जी और सुख-समृद्धि बढ़ाने के लिए ध्यान रखें ये 8 बातें

पर्दे भी डालते हैं घर के वास्तु पर असर, जानिए किस दिशा में कैसे पर्दे लगाना चाहिए

वास्तु टिप्स: किचन में किस दिशा में रखना चाहिए चूल्हा, स्टैंड के लिए कैसे पत्थर का उपयोग करना चाहिए?

गुड लक का प्रतीक है कछुए की अंगूठी, फेंगशुई में इसे माना गया है दुर्भाग्य दूर करने वाली

घर बनाने के लिए कैसा प्लॉट होता है शुभ और कैसा प्लॉट खरीदने से बचना चाहिए?

फेंगशुई की घंटियों से दूर हो सकती है निगेटिव एनर्जी, घर में बना रहता है सुकून और शांति

एकाग्रता बढ़ाने के लिए बच्चों के स्टडी रूम में रखें फेंगशुई का ये खास गैजेट, जानिए इसके अन्य फायदे

गलत दिशा में रखेंगे पानी का टैंक तो बढ़ सकती हैं आपकी मुश्किलें, सही दिशा में रखेंगे तो घर में रहेगी सुख-शांति

परंपरा: घर के दरवाजे पर वंदनवार लगाने से मिलते हैं शुभ फल और दूर हो सकती है निगेटिव एनर्जी

शनिदेव हैं पश्चिम दिशा के स्वामी, इस दिशा में दोष होने पर लाइफ में बनी रहती हैं परेशानियां, ध्यान रखें ये बाते