Asianet News HindiAsianet News Hindi

Russia Ukraine Conflict: पूर्वी यूरोप में तैनाती के लिए हाई अलर्ट पर 8500 अमेरिकी सैनिक

यूक्रेन के खिलाफ रूस द्वारा सैन्य कार्रवाई किए जाने की आशंका के मद्देनजर अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने कहा है कि 8500 अमेरिकी सैनिक तैनाती के लिए हाई अलर्ट पर हैं। 

Russia Ukraine Conflict US troops on high alert to deploy at short notice
Author
Washington D.C., First Published Jan 25, 2022, 6:53 AM IST

वाशिंगटन। यूक्रेन के खिलाफ रूस (Russia Ukraine Conflict) द्वारा सैन्य कार्रवाई किए जाने की आशंका के मद्देनजर अमेरिका ने अपने 8500 सैनिकों को पूर्वी यूरोप में तैनात करने के लिए हाई अलर्ट पर रखा है। अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन (Pentagon) ने कहा है कि 8500 अमेरिकी सैनिक हाई अलर्ट पर हैं। इनमें कॉम्बेट टीम, हेल्थ वर्कर्स, इंटेलिजेंस और सर्विलांस टीम शामिल हैं। 

पेंटागन के प्रेस सेक्रेटरी जॉन किर्बी ने कहा है कि अभी तक सैनिकों की तैनाती के लिए कोई आदेश जारी नहीं किया गया है और न ही इन्हें कोई मिशन सौंपा गया है। हालांकि पूर्वी यूरोप में नाटो को मजबूत करने के लिए अमेरिकी सैनिकों को तैनात किया जा सकता है। यूरोप में अतिरिक्त अमेरिकी सैनिकों की तैनाती नाटो के फैसले पर हो रही है। 

जॉन किर्बी ने कहा कि अमेरिकी सैनिकों की तैनाती नाटो सैन्य गठबंधन द्वारा तीव्र प्रतिक्रिया बल को सक्रिय करने के फैसले के बाद होगी। रूस की सेना की तैनाती के चलते अगर कोई गंभीर स्थिति बनती है तो अमेरिकी सैनिकों को तैनात किया जाएगा। यूक्रेन में अमेरिकी सैनिकों को तैनात करने की कोई योजना नहीं है। दूसरी ओर डेनमार्क, स्पेन, फ्रांस और नीदरलैंड सहित नाटो के कुछ सदस्य पहले से ही पूर्वी यूरोप में लड़ाकू विमान और युद्धपोत भेजने की योजना बना रहे हैं। अमेरिका ने यूक्रेन को पिछले दिनों गोला-बारूद सहित लगभग 90 टन हथियार दिए हैं। 

यूरोप के नेताओं से अमेरिकी राष्ट्रपति ने की बात
यूक्रेन संकट पर अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने यूरोप के नेताओं से वीडियो कॉल पर बात की है। बातचीत में यूके के प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन, फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन, जर्मन चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़, इटली के प्रधान मंत्री मारियो ड्रैगी, पोलिश राष्ट्रपति आंद्रेज डूडा और नाटो प्रमुख जेन्स स्टोलटेनबर्ग शामिल थे। यूरोपीय संघ के नेता उर्सुला वॉन डेर लेयेन और चार्ल्स मिशेल भी बातचीत में शामिल थे। इस दौरान इस बात पर सहमति बनी कि रूस अगर यूक्रेन पर हमला करता है तो उसके खिलाफ तुरंत जवाबी प्रतिक्रिया करनी होगा। अमेरिका और उसके सहयोगियों को रूस के खिलाफ अभूतपूर्व प्रतिबंध लगाने होंगे।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने कहा- यूक्रेन पर हमला करने की योजना बना रहा रूस
इससे पहले सोमवार को ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि खुफिया सूचनाओं के अनुसार रूस यूक्रेन की राजधानी कीव पर हमला करने की योजना बना रहा है। स्पष्ट खुफिया जानकारी मिली है कि रूस के 60 युद्ध समूह यूक्रेन की सीमा पर तैनात हैं। रूस की योजना कीव को नष्ट करने की है। इसे हर कोई देख सकता है। जॉनसन ने कहा, 'हमें रूस को यह स्पष्ट करना होगा कि यह एक विनाशकारी कदम होगा।'

बता दें कि रूस ने कहा है कि वह नाटो को सुरक्षा खतरे के रूप में देखता है और कानूनी गारंटी की मांग कर रहा है कि नाटो गठबंधन में यूक्रेन को शामिल नहीं किया जाएगा। अमेरिका ने कहा है कि विवाद का कारण रूसी आक्रामकता है, नाटो विस्तार नहीं।

 

ये भी पढ़ें

South China Sea में पोत पर लैंडिंग के समय क्रैश हुआ अमेरिका का F-35 विमान, सात घायल

Russia Ukraine Conflict: नाटो देशों में अमेरिकी सैनिक, फाइटर जेट और वॉरशिप तैनात करेंगे बाइडेन

Ukraine पर मंडरा रहे युद्ध के बादल, अमेरिका ने दूतावास के कर्मचारियों के परिवारों को दिया देश छोड़ने का आदेश

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios