IPL 2023 के लिए BCCI करेगा बड़ा बदलाव, लेकिन कोई भी विदेशी खिलाड़ी नहीं बन पाएगा इसका हिस्सा

| Dec 15 2022, 04:39 PM IST

IPL 2023 के लिए BCCI करेगा बड़ा बदलाव, लेकिन कोई भी विदेशी खिलाड़ी नहीं बन पाएगा इसका हिस्सा

सार

इंडियन प्रीमियर लीग के अगले सीजन में बीसीसीआई एक बड़ा बदलाव करने जा रहा है। जिसके चलते कोई भी विदेशी खिलाड़ी इंपैक्ट प्लेयर नहीं बन सकता है। आइए आपको बताते हैं इस नियम के बारे में।

स्पोर्ट्स डेस्क : दुनिया की सबसे बड़ी क्रिकेट लीग इंडियन प्रीमियर लीग (Indian premier league) का इंतजार तो सभी को होगा। इस बार आईपीएल के 16वें सीजन का आयोजन मार्च अप्रैल 2023 में किया जाएगा। लेकिन इसे लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) कई नए नियम लेकर आ रहा है, ताकि इसे और ज्यादा रोमांचक बनाया जा सके। हाल ही में बीसीसीआई की ओर से नया इंपैक्ट प्लेयर रूल लागू करने की बात कही जा रही है, जिसे बोर्ड ने ट्रायल के रूप में हाल ही में सैयद मुश्ताक अली t20 ट्रॉफी में भी लागू किया था। आइए आपको बताते हैं कि इंपैक्ट प्लेयर नियम क्या होता है और इसके लागू होने से क्या इंपैक्ट खेल और खिलाड़ियों पर पड़ेगा...

क्या होता है इंपैक्ट प्लेयर नियम
दरअसल, फुटबॉल की तरह ही क्रिकेट मैच के बीच में एक खिलाड़ी को बतौर सब्सीट्यूट करने का अधिकार इंपैक्ट प्लेयर नियम में होगा। यह खिलाड़ी प्लेइंग- 11 का हिस्सा नहीं होता है, बल्कि दूसरे खिलाड़ी के जगह खेलने मैदान पर आता है। इस तरह से एक टीम में कुल 12 प्लेइंग खिलाड़ी होंगे। पिछले महीने सैयद मुश्ताक अली t20 टूर्नामेंट में दिल्ली की टीम में ऋतिक शौकीन को इंपैक्ट प्लेयर के रूप में चुना गया था। सब्सीट्यूट रूप में चुने जाने के बाद उन्होंने अपनी टीम को मणिपुर से जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका भी निभाई थी।

Subscribe to get breaking news alerts

विदेशी खिलाड़ी नहीं हो पाएंगे इंपैक्ट प्लेयर का हिस्सा 
सूत्रों के अनुसार, यह नियम केवल भारतीय खिलाड़ियों के रिप्लेसमेंट को लेकर होगा और किसी भी टीम में मौजूद चार विदेशी खिलाड़ियों को सब्सीट्यूट नहीं किया जा सकेगा। बीसीसीआई से जुड़े एक सूत्र के मुताबिक एक टीम किसी विदेशी खिलाड़ी को किसी अन्य विदेशी खिलाड़ी किस स्थान पर नहीं ला सकती और ना ही किसी टीम को किसी भारतीय के स्थान पर किसी विदेशी खिलाड़ी को रखने की अनुमति दी जाएगी।

बीसीसीआई का क्या कहना है
इंपैक्ट प्लेयर नियम को लेकर बीसीसीआई का कहना है कि ऐसा करने से एक टीम में अधिक खिलाड़ियों को खेलने की अनुमति दी जाएगी और खेल में एक नया रोमांच जुड़ेगा। ऐसा सिर्फ क्रिकेट में ही नहीं बल्कि फुटबॉल, रग्बी, बास्केटबॉल, बेसबॉल जैसे खेलों में भी होता है। सब्सीट्यूट प्लेयर को किसी अन्य नियमित खिलाड़ी की तरह प्रदर्शन करने या भाग लेने की अनुमति इसमें दी जाएगी।

यह भी पढ़ें: World Championship: कलाई की चोट के बावजूद मीराबाई चानू ने उठाया 200 किलो वजन, सिल्वर मेडल जीतक रचा इतिहास

कितनी प्रॉपर्टी के मालिक हैं रविंद्र जडेजा? लग्जरी गाड़ियों से लेकर महंगे बंगले तक का रखते हैं शौक