Asianet News HindiAsianet News Hindi

COVID वैक्सीन का बूस्टर शॉट क्यों है जरूरी, जानें इसके 5 महत्वपूर्ण कारण

कोरोनावायरस की वैक्सीन के 2 शॉट लेने के बाद इसके बूस्टर डोज सभी के लिए उपलब्ध है। लेकिन युवा इसे लगाने से कतरा रहे हैं। ऐसे में हम आपको बताते हैं पांच कारण की क्यों आपको कोरोना की वैक्सीन की तीसरे डोज लेना जरूरी है।
 

5 reasons why everyone should take covid vaccine booster shot dva
Author
First Published Sep 13, 2022, 12:16 PM IST

हेल्थ डेस्क : कोरोनावायरस (corona virus) का खतरा अभी भी टला नहीं है। किसी न किसी रूप में यह लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है, इसलिए वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन यानी WHO भी कोरोना वायरस की तीसरी वैक्सीन यानी कि बूस्टर डोज लेने की गुजारिश कर रहा है, क्योंकि टीकाकरण ने दुनिया भर में COVID के प्रभाव को कम करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। लेकिन समय के साथ वैक्सीन के प्रभाव में कमी आ रही है। ऐसे में युवाओं को कोविड-19 वैक्सीन का बूस्टर शॉट (covid vaccine booster shot) क्यों लगनी चाहिए इसके 5 कारण हाल ही में एडिनबर्ग विश्वविद्यालय के इम्यूनो पैथोलॉजी के अध्यक्ष ने बताई है... 

क्यों जरूरी है कोविड की तीसरी डोज
1. दवा का असर कम होना

समय के साथ COVID के टीकों से प्रतिरोधक क्षमता कम होती जाती है। कुछ टीके, जैसे एमएमआर वैक्सीन आजीवन सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं। लेकिन कुछ महीनों में COVID टीकों की प्रभावशीलता कम होने लगती है। टीकाकरण के बाद छह महीनों में संक्रमण से सुरक्षा में लगभग 21% और गंभीर बीमारी के खिलाफ 10% की कमी आ जाती है। बुजुर्गों और कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों में यह और कम हो सकती है। ऐसे में कोविड की बूस्टर शॉट लगवाना बेहद जरूरी है। 

2. अन्य लोगों की रक्षा करना
कोरोना का टीकाकरण न केवल उस व्यक्ति को सुरक्षा प्रदान करता है जिसे टीका लगाया जा रहा है। बल्कि COVID टीकाकरण बीमारी के आगे प्रसार को कम करके अप्रत्यक्ष रूप से पूरी आबादी की रक्षा करता है। कई युवा वयस्क घरों से बाहर रहते हैं और वो नियमित रूप से बुजुर्गों या चिकित्सकीय रूप से कमजोर रिश्तेदारों, गर्भवती महिलाओं या दोस्तों से मिलते हैं। जिन लोगों को पूरी तरह से टीका नहीं लगाया गया है, उनमें COVID से संक्रमित होने की संभावना अधिक होती है।

3. लॉन्ग COVID के प्रभाव को कम करना
सभी उम्र के बहुत से लोग कोरोना संक्रमण के बाद महीनों तक COVID के लक्षणों से जूझते है, जिसे लॉन्ग COVID कहा जाता है। लंबे समय तक चलने वाला COVID दुर्बल करने वाला हो सकता है। यह 30% लोगों में हो सकता है, जिन्हें COVID होता है। हालांकि, शोध से पता चलता है कि टीकाकरण लॉन्ग COVID के जोखिम को कम करता है। एक अध्ययन के मुताबिक वैक्सीन लगभग 15% की कमी का सुझाव देती  है, जबकि दूसरा सुझाव देता है कि जोखिम आधा हो गया है। बूस्टर होने से इस जोखिम को और कम किया जा सकता है।

4. काम या पढ़ाई के लिए कम दिनों की छुट्टी
रोजगार या शिक्षा में युवा वयस्कों के लिए, पूरी तरह से टीकाकरण द्वारा प्रदान की गई बढ़ी हुई सुरक्षा का अर्थ होगा COVID या लंबे समय तक COVID के साथ बीमारी के कारण काम से कम दिन या शिक्षा में रुकावट। बढ़ते वित्तीय दबाव के समय, कुछ लोगों के लिए इसका मतलब आय के कम दिनों का नुकसान हो सकता है।

5. COVID के टीके सुरक्षित हैं
पिछले दो वर्षों में, दुनिया भर में अरबों COVID वैक्सीन की खुराक दी गई है। COVID के टीके बहुत प्रभावी और महत्वपूर्ण रूप से सुरक्षित साबित हुए हैं। बहुत ही कम केसों में कुछ गंभीर दुष्प्रभावों की पहचान की गई, जैसे कि एक निश्चित प्रकार का रक्त का थक्का और मायोकार्डिटिस (हृदय की मांसपेशियों की सूजन)। लेकिन सावधानीपूर्वक निगरानी के माध्यम से इसे कम किया जा सकता है।

और पढ़ें: SEX पावर और जवानी बढ़ाने के लिए लोग खा रहे हैं इस जानवर का चिप्स, कीमत जान उड़ जाएंगे होश

5 लाख देकर पति को दफा होने का पत्नी ने सुनाया फरमान,शौहर ने लगाई सरकार से गुहार

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios