Asianet News Hindi

जिसकी कुंडली में बनता है शश नाम का शुभ योग, उसे मिलता है राजनीति में बड़ा पद, प्रतिष्ठा, जानें इस योग के फायदे

ज्योतिष शास्त्र में किसी व्यक्ति की जन्मकुंडली में बनने वाले योग बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। इनमें कुछ शुभ तो कुछ अशुभ होते हैं। शुभ योगों में से एक योग है शश।

Who so ever have Shash Yoga in his or her horoscope, gets big position and prestige in politics, know this yog's benefits KPI
Author
Ujjain, First Published Apr 1, 2021, 11:41 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. शश योग मुख्यत: कुंडली में शनि की विशेष स्थिति के कारण बनता है। यदि किसी कुंडली में लग्न से अथवा चंद्रमा से केंद्र के स्थानों में शनि स्थित हो। अर्थात शनि यदि किसी कुंडली में लग्न अथवा चंद्रमा से 1, 4, 7 या 10वें स्थान में में तुला, मकर या कुंभ राशि में स्थित हो तो ऐसी कुंडली में शश योग का निर्माण होता है।

शश योग के लाभ
1.
जिस व्यक्ति की जन्मकुंडली में शश योग होता है उसे उत्तम स्वास्थ्य, लंबी आयु, परिश्रमी स्वभाव, किसी भी बात का पूर्ण और सटीक विश्लेषण करने की क्षमता, सहनशीलता, छिपे हुए रहस्यों को जान लेने की क्षमता आदि प्रदान करता है।
2. जिस कुंडली में यह योग हो वह व्यक्ति जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सफल होता है। ऐसा व्यक्ति राजनीतिक क्षेत्र में भी शीर्ष पदों तक पहुंचता है।
3. शश योग के प्रभाव से व्यक्ति सामाजिक जीवन में बड़ा प्रतिष्ठित पद हासिल करता है। राजा के समान उसका सम्मान किया जाता है।
4. कार्यक्षेत्र की बात की जाए तो शश योग वाले व्यक्ति बड़े सरकारी अफसर, अभियंता, जज, वकील बनते हैं।
5. इस योग वाले लोग भूमि, भवन संबंधी कार्यों में सफलता अर्जित करते हैं। शराब के व्यापारी होते हैं। इनके एक से अधिक व्यापार होते हैं।
6. शश योग व्यक्ति को उच्च कोटि का आध्यात्मिक व्यक्तित्व प्रदान करता है। ऐसा व्यक्ति बड़ा आध्यात्मिक गुरु, योगाचार्य, प्रवचनकार, कथाकार, प्रेरक वक्ता बनता है।
7. ऐसे व्यक्ति को धन, संपत्ति, समृद्धि, प्रसिद्धि सहज ही प्राप्त हो जाती है।

कुंडली के योगों के बारे में ये भी पढ़ें

पंच महापुरुष योग में से एक है रूचक, ये व्यक्ति को बनाता है निडर, साहसी और दिलाता है प्रसिद्धि

कुंडली में वक्री शुक्र देता है अशुभ फल, जानिए किस भाव में हो तो क्या असर डालता है जीवन पर?

कुंडली में सूर्य और चंद्रमा की विशेष स्थिति से बनता है राज राजेश्वर योग, देता है ये शुभ फल

अशुभ योग है व्यतिपात, जानिए जन्म कुंडली के किस भाव में होने पर क्या फल देता है

ज्योतिष: जन्म कुंडली के दोष दूर कर सकते हैं त्रिकोण स्थान पर बैठे शुभ ग्रह, जानिए खास बातें

जन्म कुंडली कौन-सा ग्रह किस स्थिति में हो तो उसका क्या फल मिलता है, जानिए

कुंडली में सूर्य की स्थिति और पांचवे भाव से जान सकते हैं किसे हो सकती है दिल से जुड़ी बीमारियां

इन ग्रहों के अशुभ फल के कारण व्यक्ति हो सकता है गलत आदतों का शिकार

7 ग्रहों की अलग-अलग स्थिति के कारण बनते हैं ये 3 शुभ योग, बनाते हैं धनवान

कुंडली में ग्रहों की विशेष स्थिति से बनते हैं सर्प और माला योग, एक देता है शुभ फल तो दूसरा अशुभ

जन्म कुंडली के ये 4 योग व्यक्ति को जीवन भर बनाए रखते हैं गरीब और परिवारहीन

जन्म कुंडली के सातवें भाव में ग्रहों की ऐसी स्थिति बनाती है वैधव्य योग, जानिए कैसा होता है आप पर इसका असर

सूर्य और चंद्रमा से बनता है प्रीति योग, प्रणय निवेदन और प्रेम विवाह के लिए शुभ है ये योग

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios