उज्जैन. ऐसे चार योग हैं यूप, शर, शक्ति और दंड योग। ये चारों योग केंद्र स्थान प्रथम, चतुर्थ, सप्तम और दशम स्थान से आगे से चार स्थानों में सभी ग्रहों के स्थित होने पर बनता है। इस संबंध में एक श्लोक है-

लग्नादिकण्टकेभ्यश्चतु‌र्ग्रहावस्थितै‌र्ग्रहैर्योगा : ।
यूपेषुशक्तिदण्डा वज्रादीनां फलान्यस्मात् ।।

अर्थात्- लग्न से लगातार चार स्थान 1, 2, 3, 4 में यदि सभी ग्रह बैठे हों तो यूप योग बनता है। चतुर्थ स्थान से लगातार चार स्थान 4, 5, 6, 7 में सभी ग्रह हों तो इषु या शर योग बनता है। सप्तम स्थान से लगातार चार स्थान 7, 8, 9, 10 में सभी ग्रह हों तो शक्ति योग तथा दशम से लगातार चार स्थानों 10, 11, 12, 1 में सभी ग्रह आ जाएं तो दण्डयोग बनता है।

इन योगों का प्रभाव
1.
जिस व्यक्ति की कुंडली में यूप योग होता है वह बड़े दानी किस्म का होता है। ऐसे व्यक्ति को त्यागी कहना ज्यादा उचित होगा। यह अपना सर्वस्व दूसरों पर लुटा बैठता है और अंत में इसके पास कुछ नहीं बचता है।
2. जिस व्यक्ति की कुंडली इषु या शर योग होता है ऐसा व्यक्ति हिंसक होता है। ऐसा व्यक्ति किसी की नहीं सुनता और स्वयं की चलाता रहता है। यह मरने-मारने से नहीं डरता।
3. जिस व्यक्ति की कुंडली में शक्ति योग होता है वह दरिद्र होता है। इसके पास धन का अभाव सदा बना रहता है। ऐसे व्यक्ति को यदि भरपूर पैतृक संपत्ति मिल जाए तो भी यह उसे नष्ट कर देता है।
4. जिस व्यक्ति की कुंडली में दण्ड योग होता है वह बंधुओं से रहित होता है। अर्थात् ऐसे व्यक्ति के भाई-बहन, स्वजन साथ नहीं होते हैं। ऐसा व्यक्ति परिवारविहीन होता है। कोई होता भी है तो साथ नहीं देता। अकेले जीवन व्यतीत करना पड़ता है।

कुंडली के योगों के बारे में ये भी पढ़ें

जन्म कुंडली के सातवें भाव में ग्रहों की ऐसी स्थिति बनाती है वैधव्य योग, जानिए कैसा होता है आप पर इसका असर

सूर्य और चंद्रमा से बनता है प्रीति योग, प्रणय निवेदन और प्रेम विवाह के लिए शुभ है ये योग

चंद्रमा के कारण कुंडली में बनता है ये अशुभ योग, जीवन भर बनाकर रखता है गरीब

जिस व्यक्ति की कुंडली में होता है अल्पायु योग, जवानी में हो सकती है उसकी मृत्यु, जानें कब बनता है ये योग

59 साल बाद 9 फरवरी को बनेगा अशुभ योग, बढ़ सकती है हिंसा की घटनाएं, आ सकती है प्राकृतिक आपदा

जन्म कुंडली के इन योगों से जान सकते हैं आप कभी विदेश जा पाएंगे या नहीं

जिसकी कुंडली में होता है इनमें कोई भी 1 योग, वो बन सकता है संन्यासी

कुंडली में कब बनता है समसप्तक योग, कब देता है शुभ और कब अशुभ फल?

ये हैं जन्म कुंडली के 5 अशुभ योग, इनसे जीवन में बनी रहती हैं परेशानियां, बचने के लिए करें ये उपाय

जिस व्यक्ति की कुंडली में होते हैं इन 5 में से कोई भी 1 योग, वो होता है किस्मत का धनी

लाइफ की परेशानियां बढ़ाता है गुरु चांडाल योग, जानिए कैसे बनता है ये और इससे जुड़े उपाय

आपकी जन्म कुंडली में बन रहे हैं दुर्घटना के योग तो करें ये आसान उपाय

जिन लोगों की जन्म कुंडली के होते हैं ये 10 योग, वो बनते हैं धनवान

जन्म कुंडली में कब बनता है ग्रहण योग? जानिए इसके शुभ-अशुभ प्रभाव और उपाय