Asianet News Hindi

जिस व्यक्ति की कुंडली में होता है अल्पायु योग, जवानी में हो सकती है उसकी मृत्यु, जानें कब बनता है ये योग

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, किसी भी व्यक्ति की जन्म कुंडली देखकर उसकी आयु के बारे में भी अनुमान लगाया जा सकता है। देखने में आता है कि कुछ लोगों की मृत्यु कम आयु में ही हो जाती है। इसका कारण अल्पायु हो सकता है।

A person who has alpa aayu yoga in his horoscope can die in his youth KPI
Author
Ujjain, First Published Feb 5, 2021, 10:18 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, किसी भी व्यक्ति की जन्म कुंडली देखकर उसकी आयु के बारे में भी अनुमान लगाया जा सकता है। देखने में आता है कि कुछ लोगों की मृत्यु कम आयु में ही हो जाती है। इसका कारण अल्पायु हो सकता है। अल्पायु से अर्थ है 35 साल के पहले। ऐसा किन ग्रहों के कारण हो सकता है, इसका जानकारी इस प्रकार है…

1. जब किसी व्यक्ति की कुंडली में चन्द्र ग्रह पाप ग्रहों से युक्त होकर त्रिक स्थानों में बैठा हो या लग्नेश पर पाप ग्रहों की दृष्टि हो और वह शक्तिहीन हो तो अल्पायु योग का निर्माण होता है।
2. इसके अलावा व्यक्ति के जीवन पर केवल उसकी कुंडली का ही नहीं, वरन उसके संबंधियों की कुंडली के योगों का भी असर पड़ता है। जैसे किसी व्यक्ति की कुंडली में कोई वर्ष विशेष मारक हो मगर उसके पुत्र की कुंडली में पिता का योग बलवान हो, तो उपाय करने पर यह मारक योग केवल स्वास्थ्य कष्ट का योग मात्र बन जाता है। अतः इन सब बातों का ध्यान रखते हुए मनीषियों ने आयु निर्धारण के सामान्य नियम बताते हुए अल्पायु योगों का संकेत दिया है।
3. आयु निर्धारण में मुख्य ग्रह यानि लग्न के स्वामी का बड़ा महत्व होता है। यदि मुख्य ग्रह 6, 8, 12 में है तो वह स्वास्थ्य की परेशानी देगा ही देगा और उससे जीवन व्यथित होगा अतः इसकी मजबूती के उपाय करना जरूरी होता है।
4. यदि गुरु अष्टम और छठे भाव में स्थित होकर पीड़ित हो रहा है तो भी यह अल्पायु योग माना जाता है। लाल किताब के अनुसार आयु का निर्धारण गुरु से होता है।
5. यदि सभी पाप ग्रह शनि, राहू, सूर्य, मंगल, केतु और चंद्रमा (अमावस्या वाला) 3, 6,12 में हो तो आयु के अल्प होने की संभावना होती है। लग्न में लग्नेश सूर्य के साथ हो और उस पर पाप दृष्टि हो तो लंबी आयु योग कमजोर पड़ सकता है।
6. यदि 8वें स्थान का स्वामी यानि अष्टमेश 6 या 12 स्थान में हो और पाप ग्रहों के साथ हो या पाप प्रभाव में हो तो अल्पायु योग बनता है। लग्नेश निर्बल हो और केंद्र में सभी पाप ग्रह हो, जिन पर शुभ दृष्टि न हो तो आयु कम हो सकती है।
7. धन और व्यय भाव में (2 व 12 में) पाप ग्रह हो और मुख्य ग्रह कमजोर हो तो भी यह योग माना जाता है।
8. लग्न में शुक्र और गुरु हो और पापी मंगल 5वें भाव में हो तो आयु योग कम होता है।
9. लग्न का स्वामी होकर चन्द्रमा अस्त हो, ग्रहण में हो या नीच का हो तो भी आयु कम होने के योग बनते हैं।

कुंडली के योगों के बारे में ये भी पढ़ें

59 साल बाद 9 फरवरी को बनेगा अशुभ योग, बढ़ सकती है हिंसा की घटनाएं, आ सकती है प्राकृतिक आपदा

जन्म कुंडली के इन योगों से जान सकते हैं आप कभी विदेश जा पाएंगे या नहीं

जिसकी कुंडली में होता है इनमें कोई भी 1 योग, वो बन सकता है संन्यासी

कुंडली में कब बनता है समसप्तक योग, कब देता है शुभ और कब अशुभ फल?

ये हैं जन्म कुंडली के 5 अशुभ योग, इनसे जीवन में बनी रहती हैं परेशानियां, बचने के लिए करें ये उपाय

जिस व्यक्ति की कुंडली में होते हैं इन 5 में से कोई भी 1 योग, वो होता है किस्मत का धनी

लाइफ की परेशानियां बढ़ाता है गुरु चांडाल योग, जानिए कैसे बनता है ये और इससे जुड़े उपाय

आपकी जन्म कुंडली में बन रहे हैं दुर्घटना के योग तो करें ये आसान उपाय

जिन लोगों की जन्म कुंडली के होते हैं ये 10 योग, वो बनते हैं धनवान

जन्म कुंडली में कब बनता है ग्रहण योग? जानिए इसके शुभ-अशुभ प्रभाव और उपाय

हस्तरेखा: हथेली में कैसे बनता है बुधादित्य योग, जानिए इसके शुभ और अशुभ प्रभाव

जिस व्यक्ति की कुंडली में होती है सूर्य और गुरु की युति, वो होता है किस्मत वाला

कुंडली में बुध और शुक्र की युति से बनता है लक्ष्मी नारायण योग, जानिए ये कब देता है शुभ फल

कुंडली में गुरु और चंद्रमा की युति से बनता है गजकेसरी नाम का शुभ योग, इससे मिलते हैं शुभ फल

हमारे जीवन को कैसे प्रभावित करता है गुरु, कुंडली में अशुभ हो ये ग्रह तो कौन-से उपाय करें?

अशुभ ही नहीं शुभ योग भी बनाता है राहु, साधारण व्यक्ति को भी बना सकता है धनवान

शनि की विशेष स्थिति से कुंडली में बनता है शश योग, इससे रंक भी बन सकता है राजा

जन्म कुंडली से जान सकते हैं किस स्त्री-पुरुष के हो सकते हैं एक से अधिक विवाह या प्रेम संबंध

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios