उज्जैन. कुछ शुभ ग्रहों के प्रभाव में आकर और अच्छी स्थिति में होने पर ये व्यक्ति को महाधनवान बनाते हैं और राजपद भी दिलवाते हैं। इन्हीं में एक ग्रह है राहु, जिसे आकस्मिकता का ग्रह कहा जाता है। जानिए किस ग्रह के साथ मिलकर राहु कौन-सा शुभ योग बनाता है…

अष्टलक्ष्मी योग

- राहु के कारण बनने वाला यह अत्यंत शुभ योग होता है। जब किसी व्यक्ति की जन्मकुंडली में राहु छठे भाव में हो और केंद्र स्थान (पहले, चौथे, सातवें, दसवें) में से किसी में बृहस्पति हो तो अष्टलक्ष्मी योग बनता है।
- कुछ विद्वान राहु के छठे और बृहस्पति के केवल दशम स्थान में होने पर अष्टलक्ष्मी योग बनना मानते हैं। यह योग जिस व्यक्ति की कुंडली में होता है, वह महा धनवान बनता है।
- ऐसे व्यक्ति को कभी धन की कमी नहीं रहती। बृहस्पति के प्रभाव से राहु शुभ फल देकर जातक को धनवान बनाता है।

लग्नकारक योग

- अपने नाम के अनुरूप यह योग लग्न के अनुसार बनता है। जिस व्यक्ति का मेष, वृषभ या कर्क लग्न हो और राहु दूसरे, नौवें या दसवें भाव में हो तो लग्नकारक योग बनता है।
इस योग को सर्वारिष्ट निवारक योग भी कहा जाता है। इस योग के प्रभाव से व्यक्ति को जीवन में कभी बुरी स्थितियों का सामना नहीं करना पड़ता। व्यक्ति धनवान तो होता ही है, उसका निजी जीवन भी अत्यंत सुखमय होता है।

कुंडली के योगों के बारे में ये भी पढ़ें

जिसकी कुंडली में होता है इनमें कोई भी 1 योग, वो बन सकता है संन्यासी

कुंडली में कब बनता है समसप्तक योग, कब देता है शुभ और कब अशुभ फल?

ये हैं जन्म कुंडली के 5 अशुभ योग, इनसे जीवन में बनी रहती हैं परेशानियां, बचने के लिए करें ये उपाय

जिस व्यक्ति की कुंडली में होते हैं इन 5 में से कोई भी 1 योग, वो होता है किस्मत का धनी

लाइफ की परेशानियां बढ़ाता है गुरु चांडाल योग, जानिए कैसे बनता है ये और इससे जुड़े उपाय

आपकी जन्म कुंडली में बन रहे हैं दुर्घटना के योग तो करें ये आसान उपाय

जिन लोगों की जन्म कुंडली के होते हैं ये 10 योग, वो बनते हैं धनवान

जन्म कुंडली में कब बनता है ग्रहण योग? जानिए इसके शुभ-अशुभ प्रभाव और उपाय

हस्तरेखा: हथेली में कैसे बनता है बुधादित्य योग, जानिए इसके शुभ और अशुभ प्रभाव

जिस व्यक्ति की कुंडली में होती है सूर्य और गुरु की युति, वो होता है किस्मत वाला

कुंडली में बुध और शुक्र की युति से बनता है लक्ष्मी नारायण योग, जानिए ये कब देता है शुभ फल

कुंडली में गुरु और चंद्रमा की युति से बनता है गजकेसरी नाम का शुभ योग, इससे मिलते हैं शुभ फल

हमारे जीवन को कैसे प्रभावित करता है गुरु, कुंडली में अशुभ हो ये ग्रह तो कौन-से उपाय करें?