Asianet News Hindi

शॉकिंग तस्वीरें: 2 दिन तक लॉकअप में बंद कर मां-बेटी पर लाठियां बरसाता रहा दरोगा

मध्य प्रदेश के सीधी जिले में एक दरोगा के हैवानियत से जुड़ीं कुछ तस्वीरें सामने आई हैं। आरोप है कि उन्होंने किसी चोरी के मामले में दो महिलाओं को पूछताछ के लिए बुलाया था। इसके बाद उनकी जमकर पिटाई की। उनक हाथ-पैरों के निशान दरोगाजी की हैवानियत को दिखाते हैं। महिलाएं आपस में मां-बेटी हैं। दरोगाजी ने बेटी के डेढ़ साल के बेटे से भी पूछताछ की थी। इस मामले की शिकायत एसपी से की गई थी। एसपी ने मामले की जांच कराने की बात कही है। 
 

Shocking story of policeman torture in Sidhi News, Madhya Pradesh kpa
Author
Bhopal, First Published Jun 1, 2020, 1:05 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

सीधी, मध्य प्रदेश. ये तस्वीरें एक दबंग दरोगा की हैवानियत को दिखाती हैं। एक तरफ कोरोना काल में पुलिस लोगों की मदद के लिए ड्यूटी के अलावा सामाजिक जिम्मेदारियां भी निभा रही है, वहीं यहां खाकी ने गुंडों से बर्ताव किया। मामला सीधी जिले के अमिलिया थाने से जुड़ा है। यहां के थाना प्रभारी पर आरोप है कि उन्होंने किसी चोरी के मामले में दो महिलाओं को पूछताछ के लिए बुलाया था। इसके बाद उनकी जमकर पिटाई की। उनक हाथ-पैरों के निशान दरोगाजी की हैवानियत को दिखाते हैं। महिलाएं आपस में मां-बेटी हैं। दरोगाजी ने बेटी के डेढ़ साल के बेटे से भी पूछताछ की थी। इस मामले की शिकायत एसपी से की गई थी।

उठने-बैठने में भी तकलीफ..
अमिलिया थाने के प्रभारी हैं दीपक वाघेला। इन पर आरोप है कि इन्होंन रिश्ते में मां-बेटी लगने वाली दो महिलाओं को थाने में बुलाकर दो दिनों तक बेरहमी से पीटा। महिलाओं के शरीर पर हुए हरे-नीले और लाल निशान पुलिसिया टॉर्चर की कहानी बयां करते हैं। पिटाई के कारण महिलाएं उठ-बैठ भी नहीं पा रही हैं। इस संबंध में महिलाओं ने एसपी से शिकायत की है। एसपी ने मामले की जांच कराने की बात कही है।

पीड़ित कल्पना पटेल ने बताया कि थाना प्रभारी ने उन पर चोरी का झूठा इल्जाम लगाया। दरोगाजी ने उनके डेढ़ साल के बच्चे से भी पूछताछ की। इसके बावजूद दरोगाजी उन्हें और उनकी मां पुटिया पटेल को थाने उठाकर ले गए। वहां दोनों की बेरहमी से पिटाई की। जब मामला बिगड़ते देखा, तो इलाज के लिए 2 हजार रुपए दिए। दरअसल, दरोगाजी को पता चल गया था कि मामला एसपी के पास जाने वाला है। 
  
बताते हैं कि कोदौर गांव की रहने वाली कल्पना का पड़ोसी से विवाद चल रहा है। इसी पर उसने चोरी का इल्जाम लगाया था। दरोगाजी चोरी कबूल करने का दबाव बना रहे  थे।

यह भी पढ़ें
बेबस मां का दर्द: इतने पैसे नहीं कि वो बेटे का कर सके अंतिम संस्कार, बोली साहब शव का जो करना है करो....

2004 का वो हादसा, जिसे जोगी ने बताया था जादू-टोना..उसके बाद फिर कभी व्हील चेयर से नहीं उठ पाए

जरा-सी लापरवाही कितना भयंकर एक्सीडेंट करा देती है, यह तस्वीर यही दिखाती है, आप भी अलर्ट रहें

जब कहीं से नहीं दिखी मदद की उम्मीद, तो भूखे और नंगे पैर हजारों मील के सफर पर चल पड़े गरीब, देखें तस्वीरें

तबाही के ये दृश्य दुबारा कोई देखना नहीं चाहेगा..ये वो तस्वीरें हैं, जिनके पीछे कई जिंदगियां तबाह हो गई थीं

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios