लखनऊ में गिरफ्तार हुआ नकली दवाओं का व्यापारी, दवाई के 80 डिब्बे बरामद, देखें वीडियो

राजधानी लखनऊ के अमीनाबाद थाने की पुलिस ने बुधवार को नकली दवाइयों का व्यापार करने वाले एक अभियुक्त को गिरफ्तार किया। पुलिस टीम ने बताया कि आरोपी मुरादाबाद से नकली दवाई लाकर लखनऊ में बेचने का काम करता था। मौके पर पुलिस को आरोपी के पास से नकली दवाइयों के 80 डिब्बे बरामद किए गए हैं। पुलिस ने दवाइयों के सैम्पल्स लेकर जांच के लिए KGMU भेजा है। 
 

| Dec 08 2021, 05:17 PM IST

Share this Video
  • FB
  • TW
  • Linkdin
  • Email

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित अमीनाबाद थाने की पुलिस को नकली दवाइयों के साथ एक युवक को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल हुई है। इसके साथ ही आरोपी आसिफ के पास से पुलिस ने 80 डिब्बे नकली दवाइयों के बरामद किए हैं। आरोपी युवक मौलवीगंज इलाके में निवास करता था। इसके साथ ही अमीनाबाद इलाके में नकली दवाओं का कारोबार जोर शोर से चला रहा था। पुलिस को इस बात की जानकारी लगी तो पुलिस ने मौलवीगंज स्थित एक मकान पर छापेमारी की। जहां से पुलिस को नकली दवाओं का जखीरा भी बरामद हुआ। फिलहाल पुलिस आरोपी युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

पार्टनर की सूचना पर पुलिस की हुई छापेमारी 
मिली जानकारी के मुताबिक, पकड़ा गया आरोपी मूल रूप से मुरादाबाद के बहेड़ी गांव का रहने वाला है। जो मौलवीगंज इलाके में किराए का मकान लेकर निवास कर रहा था। आरोपी पहले बहेड़ी गांव के ही कामिल हसन की आयुर्वेदिक दवाओं के फार्मा सूटिकल कंपनी नमन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड में पार्टनरशिप में काम करता था। लेकिन दोनों के बीच लेनदेन का विवाद हुआ, तभी से वह अलग होकर अपनी कंपनी के टाइगर ब्रांड के नकली दवाएं बनाकर बाजार में सप्लाई करने लगा। उसके पार्टनर कामिल को इस बात की जानकारी हुई तो उसने पुलिस को इसकी पूरी जानकारी और ठिकाने का पता दे दिया। पुलिस ने पार्टनर के द्वारा बताए गए स्थान पर छापेमारी की, जहां से पुलिस को सफलता भी हासिल हुई है।

मुरादाबाद से लाकर लखनऊ में बेची जाती थीं दवाएं
एडीसीपी पश्चिमी चिरंजीवी नाथ सिन्हा ने बताया कि  आरोपी आसिफ नामक युवक को मौलवीगंज स्थित एक मकान में छापेमारी के दौरान गिरफ्तार किया गया है। छापेमारी के दौरान आरोपी के पास से 80 डिब्बे नकली दवाओं के बरामद हुए हैं। आरोपी इन दवाओं को मुरादाबाद से लेकर लखनऊ आता था। इसके बाद इसके द्वारा लखनऊ में मेडिकल स्टोर संचालकों को सप्लाई भी किया जाता था। उसके पास से बरामद हुई जीवन रक्षक दवाओं के साथ यौन वर्धक कैप्सूल और टेबलेट भी मिले हैं। 

केजीएमयू भेजे गए दवाओं के सैम्पल
आरोपी के पास से मिली नकली दवाएं कितनी घातक है इसकी जानकारी के लिए दवाओं के सैंपल को मेडिकल कॉलेज (केजीएमयू) भेजा गया है। इसके साथ ही पुलिस यह जानने की कोशिश कर रही है कि इस आरोपी के द्वारा अभी तक किन मेडिकल स्टोर को इन दवाइयों की सप्लाई की गई है। इसका पता लगते ही मेडिकल संचालक के खिलाफ भी पुलिस द्वारा कार्रवाई की जाएगी।