भारत के बाद कर्ज में डूबे श्रीलंका की मदद के लिए आगे आया चीन, IMF बेलआउट पैकेज से दूर होगी परेशानी

| Jan 22 2023, 03:18 PM IST

Sri Lanka
भारत के बाद कर्ज में डूबे श्रीलंका की मदद के लिए आगे आया चीन, IMF बेलआउट पैकेज से दूर होगी परेशानी
Share this Article
  • FB
  • TW
  • Linkdin
  • Email

सार

भारत के बाद चीन कर्ज में डूबे श्रीलंका की मदद के लिए आगे आया है। चीन ने आईएमएफ के 2.9 अरब डॉलर के बेलआउट पैकेज के लिए जरूरी वित्तीय आश्वासन दिया है। इसके साथ ही चीन कर्ज का भुगतान कुछ समय बाद लेने के लिए राजी हो गया है।

कोलंबो। भारत के बाद चीन कर्ज में डूबे श्रीलंका की मदद के लिए आगे आया है। चीन ने श्रीलंका को आईएमएफ (International Monetary Fund) के 2.9 अरब डॉलर के बेलआउट पैकेज के लिए जरूरी वित्तीय आश्वासन दिया है। इस पैकेज से श्रीलंका की परेशानी दूर होगी।

द संडे टाइम्स अखबार की रिपोर्ट के अनुसार चीन के एक्जिम बैंक ने शनिवार को श्रीलंका को कर्ज के पैसे वापस करने के लिए दो साल की मोहलत देने और आईएमएफ की एक्सटेंडेड फंड फैसिलिटी से सहमत होने के लिए एक पत्र दिया है। रिपोर्ट की पुष्टि श्रीलंकाई अधिकारियों ने की है।

Subscribe to get breaking news alerts

पिछले सप्ताह भारत ने दिया था वित्तीय आश्वासन
पिछले सप्ताह भारत ने आईएमएफ का पैकेज श्रीलंका को मिले इसके लिए आईएमएफ को वित्तीय आश्वासन दिया था। इसके बाद चीन ने भी भारत के नक्शेकदम पर चलते हुए वित्तीय आश्वासन दिया है। भारत के वित्त मंत्रालय ने पिछले सप्ताह आईएमएफ को पत्र जारी कर कर्ज के पुनर्गठन के मुद्दे पर श्रीलंका को अपने समर्थन की पुष्टि की थी। पिछले दिनों भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कोलंबो की यात्रा की थी। उन्होंने अपनी यात्रा के दौरान घोषणा की थी कि भारत ने बेलआउट पैकेज के लिए श्रीलंका को आवश्यक आश्वासन दिया है।

यह भी पढ़ें- अमेरिका में फिर से मास शूटिंग, कम से कम 10 मरे, दो दर्जन घायल, चीनी न्यू ईयर सेलिब्रेशन के दौरान वारदात

श्रीलंका पर है 40 बिलियन डॉलर का कर्ज
आईएमएफ ने पिछले साल सितंबर में श्रीलंका को 2.9 बिलियन डॉलर के बेलआउट पैकेज को 4 साल से अधिक के लिए मंजूरी दी थी। ट्रेजरी द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार जून 2022 के अंत तक श्रीलंका पर द्विपक्षीय, बहुपक्षीय और वाणिज्यिक कर्ज करीब 40 बिलियन अमरीकी डॉलर था। कुल कर्ज में चीन की हिस्सा 20 फीसदी और द्विपक्षीय कर्ज में चीन का हिस्सा 43 प्रतिशत था।

यह भी पढ़ें- बढ़ती जा रही अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की परेशानी, घर से मिले 6 और गोपनीय दस्तावेज