Asianet News HindiAsianet News Hindi

Anant Chaturdashi: 19 सितंबर को इस विधि और मंत्रों से करें भगवान अनंत की पूजा, ये हैं शुभ मुहूर्त और महत्व

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को अनंत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi) कहते हैं। इस दिन भगवान अनंत यानी विष्णु की पूजा की जाती है। इस बार ये तिथि 19 सितंबर, रविवार को है। इसी दिन गणेश उत्सव का समापन भी होता है और गणेश प्रतिमाओं की विसर्जन किया जाता है।

Anant Chaturdashi on 19 September, know the shubh muhurat, importance and vidhi of these vrat
Author
Ujjain, First Published Sep 18, 2021, 8:06 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. अनंत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi 2021) (19 सितंबर, रविवार) पर सूत या रेशम के धागे को चौदह गांठे लगाकर लाल कुमकुम से रंग कर पूरे विधि विधान से पूजा कर अपनी कलाई पर बांधा जाता है। मान्यता है कि यह रक्षासूत्र का काम करता है। धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान श्रीहरि अनंत चतुर्दशी का उपवास करने वाले भक्तों के दुख दूर करते हैं और उनके घरों को धन धान्य परिपूर्ण करते हैं। 

इस विधि से करें अनंत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi 2021) का व्रत
- इस दिन व्रती महिला (व्रत करने वाली महिला) को सुबह व्रत के लिए संकल्प लेना चाहिए व भगवान विष्णु की पूजा करना चाहिए। भगवान विष्णु के सामने 14 ग्रंथियुक्त अनन्त सूत्र (14 गांठ युक्त धागा) को रखकर भगवान विष्णु के साथ ही उसकी भी पूजा करनी चाहिए।
- पूजा में रोली, मोली, चंदन, फूल, अगरबत्ती, धूप, दीप, नैवेद्य (भोग) आदि का प्रयोग करना चाहिए और प्रत्येक को समर्पित करते समय ऊँ अनन्ताय नम: मंत्र का जाप करना चाहिए। पूजा के बाद यह प्रार्थना करें-
नमस्ते देवदेवेशे नमस्ते धरणीधर। नमस्ते सर्वनागेंद्र नमस्ते पुरुषोत्तम।।
न्यूनातिरिक्तानि परिस्फुटानि। यानीह कर्माणि मया कृतानि।।
सर्वाणि चैतानि मम क्षमस्व। प्रयाहि तुष्ट: पुनरागमाय।।
दाता च विष्णुर्भगवाननन्त:। प्रतिग्रहीता च स एव विष्णु:।।
तस्मात्तवया सर्वमिदं ततं च। प्रसीद देवेश वरान् ददस्व।।
- प्रार्थना के बाद कथा सुनें तथा रक्षासूत्र पुरुष दाएं हाथ में और महिलाएं बाएं हाथ में बांध लें। रक्षासूत्र बांधते समय इस मंत्र का जाप करें-
अनन्तसंसारमहासमुद्रे मग्नान् समभ्युद्धर वासुदेव।
अनन्तरूपे विनियोजितात्मामाह्यनन्तरूपाय नमोनमस्ते।।
- इसके बाद ब्राह्मण को भोजन कराकर व दान देने के बाद स्वयं भोजन करें। इस दिन नमक रहित भोजन करना चाहिए।

अनंत चतुर्दशी व्रत का महत्व
धर्म ग्रंथों के अनुसार, जब पांडव 12 वर्षों का वनवास भोग रहे थे तब एक दिन भगवान श्रीकृष्ण उनके पास गए। भगवान को देखकर पांडव बहुत प्रसन्न हुए और युधिष्ठिर ने श्रीकृष्ण से अपनी विपत्तियों को दूर करने का उपाय पूछा। तब श्रीकृष्ण ने उन्हें अनंत चतुर्दशी के व्रत का माहात्म्य बताते हुए व्रत रखने की सलाह दी। इस व्रत को निरंतर करने के कारण ही पांडवों के सभी कष्ट दूर हो गए। 

शुभ मुहूर्त
सुबह 07:39 से दोपहर 12:14 तक
दोपहर 01:46 से 03:18 बजे तक
शाम 06:21 से रात 10:46 बजे तक

गणेश उत्सव बारे में ये भी पढ़ें

19 सितंबर से पहले कर लें श्रीगणेश के ये अचूक उपाय, मिलने लगेंगे बुध ग्रह से जुड़े शुभ फल 

Ganesh Utsav: ये हैं भगवान श्रीगणेश के सरल मंत्र, इनके जाप से दूर हो सकती हैं आपकी परेशानियां

Ganesh Utsav: लगातार बढ़ रहा है इस गणेश प्रतिमा का आकार, इनके दर्शन करने से पापों से मिल सकती है मुक्ति

Anant Chaturdashi 19 सितंबर को, गणेश प्रतिमा विसर्जन से पहले इस विधि से करें हवन और पूजा, ये हैं शुभ मुहूर्त

Ganesh Utsav: उत्तराखंड की इस गुफा में बैठकर श्रीगणेश ने लिखी थी महाभारत, आज भी मिलते हैं प्रमाण

Ganesh Utsav: ये खास मंत्र बोलते हुए श्रीगणेश को चढ़ाएं विभिन्न पेड़ों के पत्ते, मिलेंगे शुभ फल

Ganesh Utsav: गणपति को क्यों चढ़ाते हैं दूर्वा, कैसे टूटा इनका एक दांत? ये हैं श्रीगणेश से जुड़ी 5 मान्यताएं

Ganesh Utsav: परिवार के देवता हैं भगवान श्रीगणेश, उनसे सीखें फैमिली को कैसे रख सकते हैं एकजुट

Ganesh Utsav: केरल में नदी के तट पर स्थापित है 10वीं शताब्दी का प्रसिद्ध गणेश मंदिर, बहुत रोचक है इसकी मान्यता

Ganesh Utsav 2021: दंतेवाड़ा की पहाड़ी पर स्थित है श्रीगणेश की ये 1 हजार साल पुरानी दुर्लभ प्रतिमा

Life Management के आयकॉन हैं श्रीगणेश, उनसे हम भी सीख सकते हैं सफल जीवन के मंत्र

Ganesh Utsav 2021: इंडोनेशिया में सुलगते ज्वालामुखी के मुहाने पर 700 सालों से स्थित है ये गणेश प्रतिमा

Ganesh Chaturthi: 10 से 19 सितंबर तक मनाया जाएगा गणेश उत्सव, इस दौरान हर दिन बन रहे हैं शुभ योग

Ganesh Utsav: तमिलनाडु के इस शहर में 273 फुट ऊंचे पर्वत पर है श्रीगणेश का ये मंदिर, विभीषण से जुड़ी है इसकी कथा

Ganesh Chaturthi: मिट्टी की गणेश प्रतिमा की पूजा से मिलते हैं शुभ फल, कितनी बड़ी होनी चाहिए मूर्ति, कैसे बनाएं?

Ganesh Chaturthi पर बन रहा है ग्रहों का विशेष संयोग, जानिए 12 राशियों पर क्या होगा असर

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios