Asianet News Hindi

2 दिन रहेगी आषाढ़ मास की अमावस्या, जानिए किस दिन क्या करना रहेगा शुभ

इस साल आषाढ़ महीने की अमावस्या तिथि दो दिन यानी 9 और 10 को रहेगी। अमवस्या को धर्म ग्रंथों में पर्व कहा गया है। इस तिथि पर पितरों की विशेष पूजा की जाती है।

Ashad Amavasya for 2 days, know its dos and donts KPI
Author
Ujjain, First Published Jul 7, 2021, 11:29 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. ज्योतिष के नजरिये से इस दिन सूर्य और चंद्रमा एक ही राशि में आ जाते हैं। इन दोनों के ग्रहों के बीच का अंतर 0 डिग्री हो जाता है। हर महीने की अमावस्या पर कोई न कोई व्रत या पर्व मनाया जाता है। ये तिथि पितरों की पूजा के लिए खास मानी जाती है। इसलिए इस दिन पितरों की विशेष पूजा करने से सुख और समृद्धि बढ़ती है।

व्रत-पूजा के लिए शुक्रवार और स्नान-दान के लिए शनिवार
9 जुलाई, शुक्रवार को अमावस्या तिथि सूर्योदय से पहले ही शुरू हो जाएगी और पूरी रात रहेगी। इसलिए इस दिन व्रत और पीपल पूजा के साथ ही पितरों के लिए श्राद्ध किया जाएगा। साथ ही इस दिन अमावस्या तिथि में होने वाली हर तरह की पूजा की जा सकेगी।
10 जुलाई, शनिवार को भी अमावस्या तिथि सूर्योदय के बाद कुछ समय तक रहेगी। इसलिए इस दिन स्नान-दान करना चाहिए। शनिवार को होने से ये शनैश्चरी या शनि अमावस्या होगी। इस दिन तीर्थ या पवित्र नदी के जल से नहाने से हर तरह के पाप खत्म हो जाते हैं। साथ ही इस दिन किए गए दान का कई गुना पुण्य मिलता है।

अमावस्या से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें
- ज्योतिष में अमावस्या को रिक्ता तिथि कहा जाता है यानी इस तिथि में किए गए काम का फल नहीं मिलता।
- अमावस्या को महत्वपूर्ण खरीदी-बिक्री और हर तरह के शुभ काम नहीं किए जाते हैं। इस तिथि में पूजा पाठ का विशेष महत्व है।
- ज्योतिष में अमावस्या को शनिदेव की जन्म तिथि माना गया है।
- इस तिथि में पितरों के उद्देश्य से किया गया दानादि अक्षय फलदायक होता है।
- सोमवार या गुरुवार को पड़ने वाली अमावस्या को शुभ माना जाता है।
- रविवार को अमावस्या होना अशुभ माना जाता है।
- इस तिथि पर भगवान शिव और पार्वती देवी की विशेष पूजा करने से मनोकामना पूरी होती है।

आषाढ़ मास के बारे में ये भी पढ़ें

वर्षा ऋतु में बढ़ जाती है पानी से होने वाली बीमारियां, बचने के लिए ध्यान रखें ये बात

11 जुलाई से शुरू होगी आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि, इस बार 9 नहीं 8 दिनों की होगी

आषाढ़ मास की पूर्णिमा पर बनेगा शुभ योग, जानिए इस महीने से जुड़ी कुछ खास बातें

आषाढ़ मास में करें भगवान वामन की पूजा, मिलता है संतान सुख और पूरी हो सकती है मनोकामनाएं

आषाढ़ मास में 5 शुक्रवार और 5 शनिवार का योग, मंगल-शनि की युति से बढ़ सकती हैं परेशानियां

24 जुलाई तक रहेगा हिंदू कैलेंडर का चौथा महीना आषाढ़, इस महीने में मनाएं जाएंगे ये प्रमुख व्रत-त्योहार

आषाढ़ मास आज से: इस समय ज्यादा होता है बीमार होने का खतरा, इन बातों का रखना चाहिए ध्यान

24 जुलाई तक रहेगा आषाढ़ मास, इस महीने में सूर्य पूजा करने से दूर होती है बीमारियां, बढ़ती है उम्र

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios