Asianet News Hindi

हलहारिणी अमावस्या आज: इस दिन पौधे लगाने से मिलता है पुण्य और खास उपाय करने से दूर हो सकती हैं परेशानियां

आज (9 जुलाई, शुक्रवार) हलहारिणी अमावस्या है। इस अमावस्या पर स्नान, दान, श्राद्ध व व्रत का विशेष महत्व हमारे धर्म ग्रंथों में लिखा है। 

Halharini Amavasya today, know the remedies of it KPI
Author
Ujjain, First Published Jul 9, 2021, 8:27 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. हलहारिणी अमावस्या पर बैलों से काम नहीं लिया जाता है। उन्हें पेड़-पौधे और घास चरने के लिए दिनभर खुला छोड़ दिया जाता है। साथ ही हल की पूजा भी की जाती है। इस दिन किए गए उपाय विशेष ही शुभ फल प्रदान करते हैं। ये उपाय बहुत ही आसान हैं। हलहारिणी अमावस्या का महत्व और इस दिन किए जाने वाले उपाय इस प्रकार हैं-

ये है हलहारिणी अमावस्या का महत्व
हलहारिणी अमावस्या वर्षा ऋतु के प्रारंभ में आती है। वर्षा ऋतु का आरंभ किसानों के लिए भी शुभ संकेत होता है। इसलिए इस समय किसान भी खुशियां मनाते हैं व खेती में काम आने वाली वस्तुओं की पूजा करते हैं और अच्छी फसल की कामना करते हैं। किसानों द्वारा मनाया जाने वाला हलहारिणी अमावस्या का त्योहार इसी का स्वरूप है। यह त्योहार प्रमुख रूप से ग्रामीण अंचलों में किसानों द्वारा मनाया जाता है।

पौधे लगाने से मिलता है पुण्य
इस दिन पीपल, बड़ नीम आंवला अशोक तुलसी बिल्वपत्र और अन्य पेड़-पौधे लगाने की परंपरा है। ऐसा इसलिए क्योकि बारिश का मौसम होता है। जिससे पेड़-पौधे मुरझाते नहीं और जल्दी बड़े होते हैं। ग्रंथों में भी कहा गया है कि अमावस्या पर लगाए गए पेड़-पौधों से पितर और देवता प्रसन्न होते हैं। साथ ही कभी न खत्म होने वाला पुण्य भी मिलता है। इससे कई तरह के दोष भी खत्म होते हैं।

हलहारिणी अमावस्या के उपाय
1.
पितरों को प्रसन्न करने के लिए इस दिन शुद्ध घी व गुड़ मिलाकर धूप (सुलगते हुए कंडे पर रखना) देनी चाहिए। ऐसा करने के बाद हथेली में पानी लें व अंगूठे के माध्यम से उसे धरती पर छोड़ दें। ऐसा करने से पितरों को तृप्ति का अनुभव होता है और वे हमें आशीर्वाद देते हैं।
2. अमावस्या पर तालाब या नदी में मछलियों के लिए आटे की गोलियां बनाकर डालना चाहिए। इस उपाय से परेशानियों से राहत मिल सकती है।
3. अमावस्या पर चीटियों को शक्कर मिला हुआ आटा खिलाएं। ऐसा करने से भी पितृ प्रसन्न होते हैं।
4. हलहारिणी अमावस्या पर किसी शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग पर जल व बिल्वपत्र चढ़ाएं। इसके बाद मंदिर में ही बैठकर रुद्राक्ष की माला से ऊं नमः शिवायः मंत्र का पाठ करें। ये उपाय करने से जीवन की परेशानियों से राहत मिल सकती है।
5. अमावस्या पर पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाना चाहिए। इससे शनि आदि ग्रह दोषों का निवारण होता है।

आषाढ़ मास के बारे में ये भी पढ़ें

आषाढ़ अमावस्या पर करें राशि अनुसार चीजों का दान, दूर होंगी सभी परेशानियां और पूरी होगी मनोकामना

2 दिन रहेगी आषाढ़ मास की अमावस्या, जानिए किस दिन क्या करना रहेगा शुभ

वर्षा ऋतु में बढ़ जाती है पानी से होने वाली बीमारियां, बचने के लिए ध्यान रखें ये बात

11 जुलाई से शुरू होगी आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि, इस बार 9 नहीं 8 दिनों की होगी

आषाढ़ मास की पूर्णिमा पर बनेगा शुभ योग, जानिए इस महीने से जुड़ी कुछ खास बातें

आषाढ़ मास में करें भगवान वामन की पूजा, मिलता है संतान सुख और पूरी हो सकती है मनोकामनाएं

आषाढ़ मास में 5 शुक्रवार और 5 शनिवार का योग, मंगल-शनि की युति से बढ़ सकती हैं परेशानियां

24 जुलाई तक रहेगा हिंदू कैलेंडर का चौथा महीना आषाढ़, इस महीने में मनाएं जाएंगे ये प्रमुख व्रत-त्योहार

आषाढ़ मास आज से: इस समय ज्यादा होता है बीमार होने का खतरा, इन बातों का रखना चाहिए ध्यान

24 जुलाई तक रहेगा आषाढ़ मास, इस महीने में सूर्य पूजा करने से दूर होती है बीमारियां, बढ़ती है उम्र

 


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios