Asianet News HindiAsianet News Hindi

पहले 5 और अब 4...जल्लाद पवन के नाम अब कुल 9 फांसी

Mar 19, 2020, 11:06 PM IST

नाम पवन जल्लाद
काम  दोषियों को फांसी पर चढ़ाना
58 साल के पवन जल्लाद अपने पुश्तैनी काम को आगे बढ़ा रहे हैं। जल्लादी इन्हें अपने परिवार से विरासत में मिली है। 4 पीढ़ियों से मुजरिमों को फांसी देते आ रहे जल्लादी परिवार से ताल्लुक रखने वाले पवन निर्भया के दोषियों को फांसी पर चढ़ाने का इंतजार कर रहे थे। पवन जल्लादी अपने परिवार की चौथी पीढ़ी हैं। जो दोषियों का मौत से सामना कराते हैं। 
निर्भया के चारों दोषियों को तिहाड़ जेल में एक साथ फांसी पर लटकाने का काम पवन जल्लाद करेंगे। और इसी के साथ पवन अपने ही दादा का रिकॉर्ड तोड़ेंगे। मेरठ के पवन जल्लाद और उसके परिवार को देश भर में जल्लाद के रूप में जाना जाता है। 1950-60 के दशक में इस परिवार के पहली पीढ़ी के मुखिया लक्ष्मण ने देश में मुंसिफो कोर्ट द्वारा सजा दिए गए मुजरिमों को फांसी पर चढ़ाया था। अब उन्हीं लक्ष्मण का पड़पोता यानी चौथी पीढ़ी के मुखिया पवन निर्भया के दोषियों को सूली पर चढ़ाएंगे। 
मुजरिमों को फांसी के फंदे पर लटकाने के लिए सरकार जल्लाद को 5 हजार रुपये महीने देती है। पवन जल्लाद का कहना है कि वे अपने इस काम से खुश हैं और सरकार के तरफ से मिल रहे वेतन से भी। वहीं पवन जल्लाद की दो बेटियां बैबी और पूजा का कहना है कि यह फैसला इतिहास में लिखा जाएगा। और हमारे पिताजी का नाम भी हमेशा याद रखा जाएगा।
आपको बता दें 20 मार्च 2020 ये वो दिन है जब ये तारीख इतिहास के पन्नों में हमेशा के लिए दर्ज हो जाएगी। जैसे ही घड़ी में सुबह के साढे 5 बजेंगे। एक मां के 8 साल के संघर्ष का अंत हो जाएगा। अंत हो जाएगा 7 साल से अपने लिए न्याय की बाट जो रही निर्भया के इंतजार का। अंत हो जाएगा ऐसे दरिंदों का जिन्होंने दरिंदगी की हर हद को पार कर दिया। और शायद इन दरिंदों की फांसी के साथ ही न्याय होगा देश की हर उस बेटी के साथ जिसने बलात्कार जैसी यातनाओं को भुगता है।    
 

Video Top Stories