Asianet News HindiAsianet News Hindi

यूपी में CAA हिंसा पीड़ितों के घर जाते वक्त दिखा प्रियंका गांधी का गुस्सा, झटक दिया लेडी पुलिस का हाथ

Jan 4, 2020, 2:19 PM IST

वीडियो डेस्क। प्रियंका गांधी ने मुजफ्फरनगर में उन पीड़ितों से मुलाकात की जो पुलिस की लाठियों के शिकार हुई थे, ये वो पीड़ित हैं जो नागरिकता कानून के खिलाफ हुई हिंसा में पुलिस ने पीटा था।दरअसल 20 दिसंबर को नागरिकता कानून के खिलाफ लोगों प्रदर्शन किया, इस दौरान जबरदस्त पत्थरबाजी हुई। कई गाड़ियों को फूंक दिया गया, देना बैंक में तोड़फोड़ की गयी, हिंसक भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया, इसी लाठीचार्ज के शिकार लोगों से मिलने प्रियंका गांधी पहुंची हैं।


मौलाना असद से मिल प्रियंका ने ली हिंसा की पूरी जानकारी
मुजफ्फरनगर पहुंचने के बाद प्रियंका सीधे मौलाना असद मोहम्मद से मिलने पहुंची। यहां उन्होंने हिंसा को लेकर पूरी जानकारी ली। इस दौरान असद ने बताया, पुलिस अचानक आई और मदरसे से बच्चों को उठाकर लेकर गई। कई लोगों को चोटें आईं। काफी बच्चों को जेल में डाल दिया गया। हालांकि, बाद में उन्हें रिहा कर दिया गया। लेकिन अभी भी कुछ जेल में बंद हैं।

कांग्रेस मुआवजा दिलाने की करेगी कोशिश
मौलाना असद से मुलाकात के बाद प्रियंका नूर मोहम्मद के घर पहुंची। यहां उन्होंने पूरे परिवार को आश्वासन दिलाया कि कांग्रेस की कोशिश रहेगी कि परिवार को मुआवाजा दिलाया जाए। प्रियंका ने कहा, हमने पहले ही राज्यपाल को एक ज्ञापन दिया है जिसमें बताया गया है कि पुलिस ने किस तरह प्रदर्शन के दौरान ज्यादती की थी। हम लगातार लोगों की लड़ाई के लिए सड़क पर उतरेंगे। किसी के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा।प्रदर्शन में एक शख्स की हो गई थी मौतबता दें, 20 दिसंबर 2019 को मुजफ्फरनगर में हुए उपद्रव में नूर मोहम्मद की मौत हो गई थी। शहर के मीनाक्षी चौक के पास उग्र भीड़ ने प्रदर्शन कर पथराव, तोड़फोड़ और आगजनी की थी। इस दौरान पांच बाइक और स्कूटी के अलावा दर्जनों वाहन में आग लगा दी गई थी। अस्थायी पुलिस चौकी भी फूंक दी गई। गोलीबारी में तीन लोग घायल हुए थे। पुलिस ने आंसू गैस के गोले और लाठीचार्ज किया था।

Video Top Stories