Asianet News HindiAsianet News Hindi

ईशा फाउंडेशन पर लगे जबरन पैसा उगाहने के आरोप, कर्नाटक उच्च न्यायालय करेगा मामले की जांच

Jan 8, 2020, 8:04 PM IST

कर्नाटक उच्च न्यायालय ने सद्गुरु जग्गी वासुदेव द्वारा संचालित ईशा फाउंडेशन को कावेरी कॉलिंग इनिशिएटिव के लिए एकत्र की गई राशि और धन उगाहने के तरीके के बारे में एक अतिरिक्त हलफनामा दायर करने को कहा है।

चीफ जस्टिस अभय ओका और जस्टिस हेमंत चंदंगौदर की खंडपीठ ईशा फाउंडेशन के खिलाफ किसानों से कावेरी कॉलिंग इनिशिएटिव के लिए पैसा इकट्ठा करने की याचिका पर सुनवाई कर रही थी।

अदालत ने यह भी कहा कि नदी के कायाकल्प के लिए  जागरूकता पैदा करना एक अच्छी बात है, लेकिन जबरन धन इकट्ठा नहीं किया जाना चाहिए। पीठ ने राज्य सरकार की इस बात के लिए आलोचना की है कि उसने कथित रूप से लोगों से जबरन धन इकट्ठा करने वाले ईशा फाउंडेशन की शिकायतों की जांच नहीं करवाई।

राज्य ने अदालत को सूचित किया कि उसे इसके बारे में कोई शिकायत नहीं मिली है और उसने धन एकत्र करने के लिए फाउंडेशन को अधिकृत नहीं किया है। सरकारी वकील ने यह तर्क देते हुए कहा कि राज्य ने ईशा फाउंडेशन को सरकारी भूमि पर कोई काम करने की अनुमति नहीं दी है।   
 

Video Top Stories