Asianet News HindiAsianet News Hindi

BJP का दामन छोड़ सपा के दरवाजे पहुंचे कई बड़े नेता, इस्तीफा पत्र में नजर आई सभी की एक जैसी वजह, देखें वीडियो

Jan 14, 2022, 3:04 PM IST
  • facebook-logo
  • twitter-logo
  • whatsapp-logo

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव (UP Vidhansabha Chunav 2022) की तारीख का ऐलान हो चुका है। आगामी 10 फरवरी से यूपी में विधानसभा चुनाव का बिगुल भी बज जाएगा। लेकिन यूपी में 7 चरणों में होने वाले चुनाव की शुरुआत से पहले ही सत्ताधारी बीजेपी (BJP) को एक के बाद एक झटके लगना शुरू हो गए। और इन झटकों की शुरुआत 11 जनवरी को हुई। जब यूपी सरकार के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने इस्तीफे का आवाह्न कर दिया। यही वो दिन था,  जब दिल्ली में अपनी चुनावी रणनीति बना रही बीजेपी की कोर कमेटी में एक बड़ी खलबली की गूंज उठने लगी। और इस गूंज की आवाज फैलना भी तब शुरू हुई, जब स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे के बाद लगातार बीजेपी के विधायकों व नेताओं का योगी सरकार से अलग होने का सिलसिला शुरू हुआ। एक के बाद एक नेताओं के इस्तीफे की इस चैन ने बीजेपी के इस मजबूत ढांचे को कमजोर करना शुरू कर दिया। 

आपको बता दें कि स्वामी प्रसाद मौर्य के बाद इस्तीफे की चैन में जिन नेताओं ने अपना अपना नाम जोड़ा और इस्तीफे की जो वजह बताते हुए कहा कि योगी सरकार में कार्यकाल में दलितों, पिछड़ों, किसानों, बेरोजगार नौजवानों व छोटे लघु एवं मध्यम वर्ग के व्यापारियों की घोर उपेक्षा हुई। तब तक योगी कैबिनेट के तीन मंत्री और 11 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं। इनमें स्वामी प्रसाद मौर्य, दारा सिंह चौहान और धर्म सिंह सैनी शामिल हैं। इसके साथ ही बदायूं जिले के बिल्सी से विधायक राधा कृष्ण शर्मा, सीतापुर से विधायक राकेश राठौर, बहराइच के नानपारा से विधायक माधुरी वर्मा, संतकबीरनगर से भाजपा विधायक जय चौबे, भगवती सागर, बृजेश प्रजापति, रोशन लाल वर्मा, अवतार सिंह भड़ाना, मुकेश वर्मा और बाला प्रसाद अवस्थी ने भी इस्तीफा दिया है।  

 मंगलवार को दिल्ली में बीजेपी कोर कमिटी की बैठक शुरू हुई। बैठक के दौरान खबर आई कि यूपी में बीजेपी 100 से ज्यादा मौजूदा विधायकों के टिकट काट सकती है। इसके बाद यूपी सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य ने इस्तीफा दे दिया। उनके इस्तीफा देते ही यूपी में इस्तीफों का दौर शुरू हो गया एक के बाद एक यूपी में बीजेपी में 3 मंत्रियों समेत 11 विधायकों ने अब तक इस्तीफा दे दिया है। स्वामी मौर्य के इस्तीफे के बाद बांदा के तिंदवारी विधानसभा सीट से विधायक ब्रजेश प्रजापति ने त्यागपत्र दे दिया है। इनके अलावा शाहजहांपुर की तिलहर सीट से विधायक रोशनलाल वर्मा और कानपुर के बिल्हौर के विधायक भगवती प्रसाद सागर ने इस्तीफा दिया है। स्वामी प्रसाद मौर्य ने पद से इस्तीफा देने के बाद समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया।

गुरुवार को जारी रहा इस्तीफों का दौर
बीजेपी से इस्तीफों का दौर गुरुवार को भी जारी रहा। फिरोजाबाद की शिकोहाबाद सीट से विधायक डॉ. मुकेश वर्मा ने पार्टी छोड़ी। उनके इस्तीफे के कुछ देर बाद औरैया के विधूना विधानसभा से बीजेपी विधायक विनय शाक्य ने भी इस्तीफा दे दिया। लखीमपुर खीरी के विधायक बाला प्रसाद अवस्‍थी भी अखिलेश से मिलने उनके कार्यालय पहुंचे। बदायूं के बिल्सी से भाजपा विधायक आरके शर्मा, सीतापुर के विधायक राकेश राठौर और खलीलाबाद के विधायक जय चौबे भी सपाई हो चुके हैं। बहराइच के नानपारा से विधायक माधुरी वर्मा ने भी भाजपा छोड़कर समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया है।

Video Top Stories